पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जिन परिवारों ने जून के विवाह मुहूर्त नहीं टाले:जून-जुलाई में शादियों के 22 मुहूर्त, 20 जुलाई के बाद नवंबर महीने में फिर बजेंगी शहनाइयां

बलौदाबाजार9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • वे घर में ही शादी कर सकेंगे

कोरोना संक्रमण और लॉकडाउन की वजह से लोगों ने अप्रैल, मई और जून के शादी मुहूर्तों की 95 प्रतिशत शादियां टाल दी हैं। पिछले अप्रैल और मई में मात्र 5 प्रतिशत शादियां घरों में बिना बैंड-बाजे, घोड़ी, बारात और मेहमानों के हुईं थीं। दिन के मुहूर्तों में भी शादियां हुईं। जून-जुलाई में दिन-रात कोे मिलाकर करीब 22 लग्न मुहूर्त हैं।

कोरोना के नए मामलों में गिरावट के साथ ही जून महीने की शुरुआत हो चुकी है। लॉकडाउन के 7वें चरण के साथ शुरू हुए इस महीने में दिन-रात के लग्न के अनुसार 14 शुभ मुहूर्त हैं। जिन परिवारों ने जून के विवाह मुहूर्त नहीं टाले, वे घर में ही शादी कर सकेंगे। इस दौरान 10 लोग ही शामिल होंगे। वहीं, जिनके विवाह मुहूर्त जुलाई में हैं, उन्होंने सरकारी गाइडलाइन के इंतजार में कोई बुकिंग नहीं कराई है। पहले से जो बुकिंग थी, वह भी कैंसिल करा दी गई हैं।

18 जुलाई को भड़ल्या नवमी का बड़ा अबूझ मुहूर्त
18 जुलाई को भड़ल्या नवमी का बड़ा अबूझ मुहूर्त रहेगा। 20 जुलाई को देवशयनी एकादशी है फिर चार माह के लिए शादियों पर विराम लग जाएगा। पं. पुनेश्वर तिवारी़ ने बताया कि देवउठनी एकादशी 14 नवंबर से 11 दिसंबर तक कुल 8 विवाह के मुहूर्त रहेंगे। इन मुहूर्तों के लिए उन परिवारों ने विवाह स्थल, बैंडबाजे, घोड़ी बुकिंग कराई है जिन्होंने अप्रैल, मई, जून के मुहूर्त टाले थे।

खबरें और भी हैं...