पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अस्पताल का वर्चुअल उदघाटन:मात्र 20 दिन में बना 500 बेड का अस्पताल, सीएम ने जनता को सौंपा

बलौदाबाजार2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कलेक्टर सुनील कुमार ने दीप प्रज्ज्वलित कर अस्पताल का उद् घाटन किया। - Dainik Bhaskar
कलेक्टर सुनील कुमार ने दीप प्रज्ज्वलित कर अस्पताल का उद् घाटन किया।
  • मरीजों की भर्ती रविवार या सोमवार से : सीएमएचओ

जिला मुख्यालय बलौदाबाजार में शुक्रवार को 500 बिस्तर के नए कोविड अस्पताल का वर्चुअल उदघाटन मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रायपुर स्थित निवास से रिमोट बटन दबाकर किया लेकिन शुभारंभ के बाद अस्पताल शुरू नहीं हो पाया है। सीएमएचओ डाॅ. खेमराज सोनवानी ने बताया कि नवनिर्मित अस्पताल की सैनिटाइजिंग और ऑक्सीजन पाइप लाइन की टेस्टिंग जैसे कुछ महत्वपूर्ण काम बचे हैं, इसके पूरा होने के बाद मरीजों को रविवार रात या सोमवार सुबह से भर्ती करना शुरू कर देंगे।

600 बिस्तरों का था पर अब 500 का हो गया : कृषि उपज मंडी परिसर में 600 बिस्तर का कोविड अस्पताल खुलने की तैयारियां थीं मगर अब 500 बिस्तरों का ही होगा। रनिंग स्पेस, फ्री स्पेस छोड़ने के बाद जब स्ट्रक्चर खड़ा हुआ तो जगह की कमी के चलते इस्टीमेट बदल गया और 100 बिस्तर ड्राप करने पडटे। जिले में ऑक्सीजन बेड को लेकर मारामारी है जबकि कोविड सेंटरों में सामान्य बिस्तर अच्छी खासी संख्या में खाली पड़े हैं इसलिए शुरुआती चरण में 120 ऑक्सीजन बेड वाले सेक्शन को रविवार रात या सोमवार सुबह से शुरू कर दिया जाएगा जबकि 320 सामान्य बिस्तरों वाले सेक्शन को शुरू करने में कुछ समय और लग सकता है।

रिकॉर्ड समय में तैयार करने पर प्रशासन को दी बधाई
सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में बहुत जल्द कामयाब होंगे। उन्होंने रिकॉर्ड 20 दिन में सर्वसुविधायुक्त अस्पताल तैयार करने के लिए जिला प्रशासन को बधाई दी। कार्यक्रम की अध्यक्षता स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण एवं जिले के प्रभारी मंत्री टीएस सिंहदेव ने की।

दानदाताओं के प्रति प्रकट किया आभार
डीएमएफ फंड की राशि सहित सांसद सुनील सोनी, विधायक प्रमोद शर्मा, विधायक शिवरतन शर्मा जैसे जनप्रतिनिधियों के साथ सीएम व कलेक्टर ने सहयोग करने वाले औद्योगिक प्रतिष्ठानों, समाजसेवी और दानदाताओं का आभार प्रकट किया।

अब हम अपने ही जिले में इलाज करने सक्षम: कलेक्टर
कलेक्टर सुनील कुमार जैन ने कहा कि इस अस्पताल के तैयार हो जाने से हम मरीजों को अपने जिले में ही रखकर इलाज करने में सक्षम हो गए हैं। जरूरत पड़ने पर आसपास के जिलों के मरीजों का भी इलाज यहां किया जा सकता है। मानसिक चिंता और अवसाद की स्थिति से बचाने और उनकी काउंसलिंग के लिए मनोरोग विशेषज्ञ डॉ. राकेश प्रेमी को प्रभारी बनाया गया है।

खबरें और भी हैं...