पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पर्युषण पर्व:क्रोध करने से दिनभर के पुण्य बेकार हो जाते हैं: अक्षत जैन

बलौदाबाजार11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

दिगंबर जैन समाज का पर्युषण पर्व शनिवार से शुरु हुआ। इस दौरान शांतिनाथ मंदिर में दस लक्षण धर्म के मंडल विधान का पूजन सामूहिक रूप से किया गया। राजस्थान के अक्षत जैन ने शांति धारा व पूजन संपन्न कराया। तप व आराधना का यह दौर पिछले दो दिनों से जारी है। तीसरे दिन रविवार उत्तम आर्जव धर्म था, सुबह 6.30 बजे से मंदिर में अभिषेक व पूजा का कार्यक्रम शुरू किया गया था। रविवार को शांति धारा करने का सौभाग्य कलेक्टर सुनील कुमार को प्राप्त हुआ। शांतिधारा के साथ भगवान का अभिषेक किया गया।

राजस्थान के अक्षत जैन ने उत्तम क्षमा का महत्व बताया। उन्होंने प्रवचन में क्रोध से होने वाले नुकसान के बारे में बताया कि अगर आप क्रोध करते हैं तो आपके दिनभर के पुण्य व्यर्थ हो जाते हैं। प्रवचन के बाद महिलाओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन रखा था। 19 सितंबर को अनंत चतुर्दशी मनाई जाएगी। इस दिन समाज के पुरुष-महिलाएं निर्जला उपवास रहेंगे। समाज के लोगों के प्रतिष्ठान इस दिन बंद रहेंगे। वहीं 21 सितंबर को उत्तम और क्षमा वाणी पर्व मनाया जाएगा। इस अवसर पर विशेष रूप से समाज के अध्यक्ष दिनेश जैन, पं. धनप्रसाद जैन, इन्द्रकुमार जैन, महावीर प्रसाद जैन, कपूरचंद जैन, प्रकाशचंद जैन, पदमचंद जैन, महेन्द्र कुमार जैन, मिश्रीलाल जैन, बाबूलाल एवं लेखचंद जैन, रमेश जैन उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...