पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लापरवाही:स्वीकृति के बाद भी मिनी बाईपास की फाइल चार साल से मंत्रालय में अटकी

बलौदाबाजार19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बलौदाबाजार. छुईहा से निकली अंडर ग्राउंड केनाल जिसके उपर प्रस्तावित है 2.4 किमी का मिनी बाईपास। - Dainik Bhaskar
बलौदाबाजार. छुईहा से निकली अंडर ग्राउंड केनाल जिसके उपर प्रस्तावित है 2.4 किमी का मिनी बाईपास।
  • पीडब्ल्यूडी ने नए कलेक्टर को जानकारी ही नहीं दी और न ही खुद से कोई पहल की

हर शहर के एक हिस्से से दूसरे हिस्से को टच करते हुए बाईपास सड़क गुजरती है। जिला मुख्यालय में भी बाईपास सड़क है लेकिन दुर्भाग्य कि इसके होते हुए भी कई बड़ी-बड़ी गाड़ियां शहर के अंदर से ही होकर गुजर रही हैं। ऐसे में पहले से ही जाम और प्रदूषण से कराह रहे शहर को गाड़ियों का और बोझ वायु, ध्वनि प्रदूषण जैसी परेशानियों से जूझना पड़ रहा है।

अगर जनप्रतिनिधि व अधिकारी शहरवासियों की इस परेशानी को गंभीरता से लें तो शहर में ही छुईहा से निकली अंडर ग्राउंड केनाल के ऊपर शहरवासियों को मिनी बाईपास मिल सकता है, जिसकी स्वीकृति 4 साल पहले ही मिल चुकी है। मामले में टीसी वर्मा, कार्यपालन अभियंता, लोक निर्माण विभाग का कहना है कि प्रस्ताव को प्रशासनिक स्वीकृति मिल चुकी है, स्थल परिवर्तन के लिए आवेदन दिया गया है मगर मंत्रालय से अनुमति का इंतजार है।

4 साल पहले ही इस योजना को स्वीकृति मिल चुकी है मगर मंत्रालय से अनुमति पत्र लाने के लिए न ही पीडब्ल्यूडी के किसी अधिकारी ने और न ही किसी जनप्रतिनिधि ने प्रयास किया। शहर के मुख्य मार्ग के समानांतर 200 मीटर की दूरी पर छुईहा जलाशय से निकली अंडर ग्राउंड केनाल के ऊपर मिनी बाईपास के लिए 2017 में 513 करोड़ 87 लाख रुपए की प्रशासनिक स्वीकृति भी मिल चुकी है।

पूर्व में यह मिनी बाईपास छुईहा से लेकर सोनपुरी गांव से शहर की ओर जुड़ रहा था मगर विसंगतियों के चलते तत्कालीन कलेक्टर जेपी पाठक ने इस मिनी बाईपास के रूट को परिवर्तित कर इसे पंचशील नगर तक जाने वाले कलेक्टोरेट के आखिरी छोर से पुराना बस स्टैंड के लटुवा रोड पूर्व विधायक सत्यनारायण केसरवानी के मकान तक बनाने का प्रस्ताव मंत्रालय को भेजने के निर्देश लोक निर्माण विभाग के अधिकारियो को दिया था।

संबंधित विभाग के अधिकारियों की उदासीनता कहें या लापरवाही तीन साल बीत जाने के बाद भी स्थल परिवर्तन के लिए मंत्रालय से अनुमति का आदेश नहीं ला पाए हैं और न ही प्रशासनिक स्वीकृति मिल चुके इस मिनी बाईपास के संबंध में वर्तमान कलेक्टर सुनील कुमार जैन को इसकी जानकारी दी है।

मिनी बाईपास से यातायात का दबाव कम होगा

मामले में टीसी वर्मा ईई लोनिवि ने कहा कि प्रस्ताव को प्रशासनिक स्वीकृति मिल चुकी है। स्थल परिवर्तन के लिए आवेदन दिया गया है मगर मंत्रालय से अनुमति का इंतजार है। उल्लेखनीय है कि मुख्य मार्ग पर जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक सहित कुल 14 निजी बैंक हैं। प्रतिदिन दर्जनभर स्कूलों के छात्रों की भीड़ और बसें मुख्य मार्ग से ही होकर गुजरती हैं।

तहसील कार्यालय, जनपद कार्यालय, संयुक्त जिला कार्यालय, जिला पंचायत कार्यालय सहित दर्जनों कार्यालयों तक जाने वालों की भीड भी शहर की मात्र 3 किलोमीटर लंबे मार्ग से ही होकर जाती है। फुड कार्पोरेशन ऑफ इंडिया का वेयर हाउस भी इसी मार्ग पर है जिसके बड़े-बड़े ट्रकों पर नो-एंट्री का नियम लागू नहीं होता। ये ट्रक बेधड़क सड़कों पर दौड़ते सड़कों के दोनों ओर कई व्यावसायिक परिसर, नर्सिंग होम भी हैं। सभी का आवागमन इसी रास्ते से होता है। मिनी बाईपास बन जाने के बाद यातायात का दबाव कम होगा।

मंत्रालय से जल्दी लाएंगे अनुमति

केनाल के उपर बनने वाले मिनी बाईपास का काम सिर्फ मंत्रालय से अनुमति मिलने के इंतजार में अटका हुआ है,इसकी जानकारी नही है। मिनी बाईपास शहरवासियों के लिए बड़ी सौगात के रूप में होगा। मंत्रालय से जल्द ही अनुमति पत्र प्राप्त कर निर्माण कार्य के लिए दिशा-निर्देश जारी कर दिए जाएंगे।
-सुनील कुमार जैन, कलेक्टर बलौदाबाजार

विधायक ने कहा पूरी कोशिश करूंगा

समोद डायवर्सन से पाइप लाइन द्वारा कुम्हारी बांध से पानी देने की स्वीकृति जिस तरह क्षेत्रवासियों के लिए वरदान है, उसी तरह मिनी बाईपास शहरवासियों के लिए वरदान साबित होगा। भास्कर के संज्ञान के बाद अब मेरा पुरजोर प्रयास शहरवासियों को मिनी बाईपास दिलाना रहेगा।
-प्रमोद शर्मा, विधायक बलौदाबाजार

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज ग्रह गोचर और परिस्थितियां आपके लिए लाभ का मार्ग खोल रही हैं। सिर्फ अत्यधिक मेहनत और एकाग्रता की जरूरत है। आप अपनी योग्यता और काबिलियत के बल पर घर और समाज में संभावित स्थान प्राप्त करेंगे। ...

    और पढ़ें