पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

वारदात:हत्यारोपी बोला- घर जाकर मेरी मां से बात करा दो, इसी बहाने बुलाया और कर दी भाजपा कार्यकर्ता की हत्या, 6 गिरफ्तार

बलौदाबाजार3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • रंजिश में वार्ड-17 में शनिवार रात हुई घटना, अपराधियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर समर्थकों ने रविवार सुबह तक घेरे रखा थाना

शनिवार देर रात शहर में भाजपा व बजरंग दल कार्यकर्ता की हत्या के बाद क्षेत्र में तनाव बन गया। पुरानी रंजिश में वार्ड-17 लोहिया नगर निवासी भक्ति यादव (25) पिता भगवान विष्णु यादव अपने मित्र के साथ घूम रहा था। तभी पड़ोस में रहने वाले सूरज वैष्णव ने भक्ति यादव को फोन कर अपने घर मां से बात कराने के बहाने बुलाया, जहां पर पहले से ही तैयार बैठे उसके 5 अन्य साथियों ने उसकी चाकुओं से गोदकर हत्या कर दी। फिलहाल सभी गिरफ्तार 6 आरोपियों को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ 302, 147, 148, 149 की धारा के तहत केस दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है। आरोपियों में सूरज वैष्णव के साथी इकबाल खान, शाहरुख खान, जावेद खान, रजा खान और राहुल देवार शामिल हैं।
चाकुओं से हमला करने पर भक्ति यादव को घायल अवस्था में पहले शहर के चंदादेवी अस्पताल ले जाया गया मगर मामला पुलिस का होने के कारण उसे जिला अस्पताल भेजा गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। रात 10 बजे भाजपा नेता की मौत की खबर शहर में आग की तरह फैल गई। गुस्साई भीड़ ने अलग-अलग समूहों में तोड़फोड़ और नारेबाजी करते हुए अस्पताल तथा थाने के बाहर एकत्र होकर आरोपियों को जल्द पकड़ने की मांग करते हुए सड़क पर बैठकर चक्काजाम किया। शनिवार रात से शुरू हुआ यह विरोध प्रदर्शन रविवार सुबह 10 बजे तक जारी रहा। 
सुबह 10 बजे तक शहर के गार्डन चौक पर भाजपा व हिंदू संगठनों के हजारों कार्यकर्ता जमा हो गए। कार्यकर्ता अलग-अलग समूहों में शहर के बाजारों में घूम-घूमकर बंद का आह्वान करते रहे। रविवार को हत्या के विरोध में शहर के सभी बाजार बंद रहे। मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए पुलिस ने हत्यारों की धर-पकड़ के लिए अलग-अलग टुकड़ियों को अपराधियों के संभावित ठिकानों पर रवाना किया। घटना को अंजाम देने के 6 घंटे बाद ही सभी 6 आरोपियों को शनिवार देर रात 3 बजे तक पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। शहर में तनावपूर्ण माहौल को देखते हुए रात में ही आरोपियों को भाटापारा ग्रामीण थाने भेज दिया गया था। 
पार्षद का चुनाव हार गया था मृतक
मृतक दिसंबर 2019 में हुए नगर पालिका चुनाव में भाजपा के टिकट पर अपने वार्ड-17 लोहिया नगर से पार्षद का चुनाव हार गया था। तीन महीने पहले ही उसकी शादी हुई थी। अवैध शराब बेचने के मामले में मृतक दो दिन पहले ही जेल से रिहा हुआ था। 
घटना के चश्मदीद मृतक के दोस्त की जुबानी
मृतक के मित्र चश्मदीद ईश्वर कुर्रे ने थाने में दर्ज एफआईआर में बताया कि शनिवार रात 8 बजे मैं और भक्ति यादव घूम रहे थे। तभी भक्ति के मोबाइल पर पड़ोस में ही रहने वाले घटना में शामिल आरोपी सूरज वैष्णव ने फोन कर कहा कि मुझे मेरी मां से बात करा दो, बहुत जरूरी है। यह सुनने के बाद भक्ति सूरज के घर गया और उसकी मां को फोन देकर कहा कि बेटे से बात करो। वह खुद सूरज के घर के बाहर खड़ा रहा। इस दौरान इकबाल खान, शाहरुख खान, जावेद खान, रजा खान और राहुल देवार आए, जिसमें से 3 ने भक्ति को पकड़ लिया तथा आरोपी इकबाल और शाहरुख ने हाथ में रखे चाकू से उसके पेट और सीने में ताबड़तोड़ वार करना शुरू कर दिए। एफआईआर कराने वाले चश्मदीद मित्र ने रिपोर्ट में यह नहीं बताया कि पूरे घटनाक्रम के दौरान वह खुद क्या कर रहा था। वहीं पुलिस ने भी आरोपियों के पास से हत्याकांड में प्रयुक्त हथियार के रूप में एक चाकू की बरामदगी की बात कही है। चश्मदीद के अनुसार मृतक पर दोनों आरोपियों ने अपने-अपने चाकू से हमला किया था। ऐसे में दूसरा चाकू कहा गया, यह प्रश्न का विषय है। 
2 घंटे पहले भी हुई थी चाकूबाजी की एक और घटना, दोनों में शामिल था सूरज 
हिंदू नेता की हुई हत्या के दो घंटे पहले ही पंडित लक्ष्मी प्रसाद कन्या शाला के पास ही चाकू की एक घटना और घटी थी, जिसका एक आरोपी भक्ति यादव हत्याकांड में भी आरोपी बनकर सामने आया है। हैरानी की बात यह है कि कन्या शाला परिसर में हुई चाकूबाजी की जानकारी सिटी कोतवाली पुलिस को भक्ति यादव हत्याकांड होने के बाद मिली, जबकि प्रार्थी संजय काॅलोनी के घनश्याम साहू ने घायल अवस्था में ही जिला अस्पताल के पुलिस सहायता केंद्र में दर्ज एफआईआर में बताया कि शनिवार की शाम 6.30 बजे कन्या शाला स्कूल परिसर में मोबाइल पर वह पबजी खेल रहा था। तभी सूरज वैष्णव अपने अन्य साथियों जग्गू मानिकपुरी, विशाल ठाकुर और अन्य लड़कों के (जिसे मैं नहीं पहचानता) आया और मुझसे वाद-विवाद करने लगा। इसी दौरान उसने चाकू निकालकर मेरे पेट पर वार कर दिया। इस चाकूबाजी की घटना को अंजाम देने के बाद ही सूरज वैष्णव ने दूसरी घटना को अंजाम देने की रणनीति भी बना ली। उसने भक्ति यादव को फोन कर अपने घर मां से बात कराने के बहाने अपने घर बुलाया था, जहां पर पहले से ही तैयार बैठे उसके 5 अन्य साथियों ने उसकी चाकुओं से गोदकर हत्या कर दी। अगर 2 घंटे पहले हुई इस घटना के आरोपियों को धर दबोच लिया होता तो दूसरे हत्याकांड की रूपरेखा ही नहीं बन पाती। फिलहाल सभी गिरफ्तार 6 आरोपियों के खिलाफ 302, 147, 148, 149 की धारा के तहत केस दर्ज कर विवेचना की कार्रवाई की जा रही है। 

2 दिन पहले रिहाई, जेल में ही मिल रही थी धमकियां
अवैध शराब बेचने के मामले में मृतक 2 दिन पहले ही जेल से रिहा हुआ था। रिहा होने पर उसे लेने आए मित्र ईश्वर कुर्रे को मृतक भक्ति ने बताया था कि जेल में बंद हत्या के आरोपी रायपुर के आसिफ खान ने चेताया था कि बाहर निकलो तो सावधान रहना, हत्या हो सकती है। मित्र ने हत्याकांड के बाद सिटी कोतवाली में इस बात को अपने बयान में दर्ज भी कराया है। 

पेट और कमर में एक-एक कर 16 बार चाकुओं से वार किया गया
रविवार 12 बजे प्रेसवार्ता के दौरान एडिशनल एसपी निवेदिता पाल ने हत्या के कारणों की वजह बताते हुए कहा कि मृतक भगवती यादव उर्फ भक्ति यादव सार्वजनिक स्थानों पर आरोपियों के साथ अक्सर मारपीट व लड़ाई-झगड़ा करता था। इससे आरोपी खुद को अपमानित महसूस करते थे। इसी बात से नाराज होर आरोपियों ने योजनाबद्ध तरीके से उसकी हत्या की। आरोपियों ने मृतक के पेट, कमर में 16 बार चाकुओं से वार किया था। गिरफ्तार आरोपियों में से एक के पास से घटना में प्रयुक्त चाकू बरामद कर लिया गया है। 

बवाल की आशंका से चप्पे-चप्पे पर तैनात थी पुलिस
6 आरोपियों में से 4 का एक विशेष जाति वर्ग से होना तथा मृतक का कट्टर हिंदू छवि वाला और भाजपा नेता होने की वजह से हत्या की यह खबर पूरे शहर में आग की तरह फैल गई। बढ़ते आक्रोश और सांप्रदायिक सद्भाव बिगड़ने की आशंका के चलते पुलिस के सशस्त्र जवान सभी चौक-चौराहों पर रात से ही तैनात हो गए थे।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज उन्नति से संबंधित शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में भी कुछ समय व्यतीत होगा। किसी विशेष समाज सुधारक का सानिध्य आपके अंदर सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करेगा। बच्चे त...

और पढ़ें