पुलिस की कार्रवाई:महिला ने नाबालिग बेटे और पड़ोसी के साथ मिलकर की थी प्रेमी की हत्या, तीनों गिरफ्तार

दंतेवाड़ा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दंतेवाड़ा। पुलिस की गिरफ्त में आरोपी और बरामद सामान। - Dainik Bhaskar
दंतेवाड़ा। पुलिस की गिरफ्त में आरोपी और बरामद सामान।

नेलसनार के युवक सतीश नाग की हत्या की गुत्थी 12 दिन बाद गीदम पुलिस ने सुलझाकर 3 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। इनमें एक नाबालिग है। पूरा मामला प्रेम प्रसंग जुड़ा है। आरोपी कोई और नहीं बल्कि प्रेमिका सुखमती, उसका नाबालिग बेटा और पड़ोसी बृजलाल है।

गीदम पुलिस ने 25 जुलाई को हारम नदी में लाश बरामद की थी। छानबीन में पुलिस को कई सुराग हाथ लगे जिससे आरोपियों तक पहुंचना आसान हो गया। पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर बाइक, मोबाइल व घटना में उपयोग किए हथियार को भी बरामद कर लिया है। कार्रवाई में टीआई जयसिंह खूंटे. एसआई चंदन सिंह, एएसआई गुरवंता वरगे, प्र. आ. राजकुमार, दिवाकर मिश्रा आदि शामिल रहे।

पड़ोसी ने भी की मदद, बाइक और मोबाइल मांगा
24 जुलाई की शाम मुझे और सतीश को मेरे ही घर पर मेरे बेटे ने आपत्तिजनक हालत में देख लिया था। गुस्से में मेरे बेटे ने सतीश के सिर पर सरिया से हमला कर दिया। अपने बेटे की नजरों में खुद को सही साबित करने मैं बेटे के साथ मिल गई और मैंने भी टंगिया से सतीश के सिर पर हमला किया। जिससे सतीश की मौत हो गई। लाश को ठिकाने लगाने पड़ोसी बृजलाल की मदद ली। बेटे और बृजलाल ने बाइक में बैठाकर गीदम की नदी में शव को फेंक दिया। इसके लिए बृजलाल ने मृत सतीश की बाइक और मोबाइल की मांग की। हम तीनों एक राय होकर सहमत हो गए।
(जैसा कि आरोपी प्रेमिका ने पुलिस को बयान में बताया)

इस तरह पुलिस आरोपियों तक पहुंची
पुलिस को लाश के साथ बैग मिला था। बैग में बारसूर निवासी सुखमती नाग का आधार कार्ड मिला। गीदम पुलिस बारसूर पहुंची व सुखमती के बारे में जानकारी जुटानी शुरू की। पता चला कि दोनों का प्रेम प्रसंग है। सुखमती को पूछताछ की गई तो उसने सारे राज उगल दिए।

चोरी के मामले में जेल जा चुके हैं
गीदम टीआई जयसिंह खूंटे ने बताया कि चोरी के मामले में सतीश, सुखमती जेल जा चुके हैं। इस घटना में उसका नाबालिग बेटा भी शामिल था। जिसे बाल संप्रेक्षण गृह भेजा है।

खबरें और भी हैं...