पिछले 6 साल से यही हाल:जिले के सभी सरपंचों को महीने में मिलता है 2 हजार रु., लेकिन बेरला में 500 रु.

बेरला9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जपं सीईओ को लिखी चिट्ठी, मांगा जवाब

जनपद पंचायत बेरला के अंतर्गत आने वाले पंचायतों के सरपंचों को मानदेय के रूप में महज 500 रुपए प्रदान किए जाने वाले मामले को लेकर जिपं सभापति राहुल टिकरिहा ने मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने जनपद के सीईओ को पत्र सौंपकर 4 बिंदुओं पर जवाब मांगा है। उन्होंने जनपद बेरला पर आरोप लगाया कि जब अन्य जनपद पंचायतों के सरपंचों को 2 हजार रुपए का मानदेय दिया जाता है, तो यहां भेदभाव क्यों किया जा रहा है। जबकि जिला पंचायत से निरंतर पूर्ण दर से मानदेय जनपद को भेजा जा रहा है। राहुल ने कहा कि सरपंचों को पूर्ण मानदेय अप्रैल से ही जारी किया जाए व विसंगति मामले में जल्द जवाब दें। बेरला जनपद में विगत 6 वर्षों से सरपंचों को महज 500 रुपए मानदेय का भुगतान किया जा रहा था। जबकि अन्य जनपदों में 2000 रुपए की मानदेय राशि दी जाती है। टिकरिहा ने बताया की लगातार इस विषय को लेकर सरपंचों ने अपनी बात रखी तो इसकी पड़ताल की गई। इसमें पता चला कि जिला पंचायत से 2000 के हिसाब से ही राशि भेजी जाती है, लेकिन जनपद अपने स्तर पर कटौती कर रहा है। इस हिसाब से एक करोड़ से ऊपर की राशि की अनियमितता है। इसे जिपं को वापस भी नहीं किया गया है।

जनपद सीईओ ने दिया आश्वासन : अप्रैल से पूरा मानदेय देंगे
जिपं सदस्य ने बेरला जनपद सीईओ से 4 बिन्दुओं में जवाब मांगा है। उन्होंने वेतन में विसंगति का कारण व क्या यह नियम सिर्फ बेरला जनपद में लागू होने, लगभग 6 सालों से बचत राशि का क्या उपयोग करने, मानदेय राशि तो प्रति सरपंच 2000 का प्राप्त हुआ है ऐसे में बचत राशि के हिसाब व क्या ऐसी ही विसंगति पंचों के मानदेय में भी हो रही है। जैसे प्रश्नों के साथ जबाव मांगे हैं। इस मामले में जनपद सीईओ ने बताया कि अब तक गलत चली आ रही परंपरा में सुधार करते हुए अप्रैल माह से सभी सरपंचों को 2000 रुपए का पूर्ण मानदेय जारी किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...