पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अवैध कारोबार पर नहीं की जा रही कार्रवाई:चवेला नदी में रेत का अवैध उत्खनन नियम विरुद्ध पुल के नीचे भी खुदाई

भानुप्रतापपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सरेआम किए जा रहे इस अवैध कारोबार पर नहीं की जा रही कार्रवाई

चवेला नदी से इन दिनों रेत माफिया लगातार रेत का अवैध रूप से परिवहन किया जा रहा है। इतना ही नहीं पुल के नीचे से रेत निकाला जा रहा है। इससे पुल को क्षति भी हो सकती है यह नियम विरुद्ध भी है। जानकारी के अनुसार चवेला नदी में बने स्टॉप डैम का पानी सूख जाने से यहां रेत निकालने के लिए रेत माफिया सक्रिय हो गए हैं। इतना ही नहीं पुल के नीचे से रेत को निकाली जा रही है।

इससे पुल को नुकसान हो सकता है। इसके लिए शासन प्रशासन कोई ध्यान नहीं दे रहा है, जबकि यह संबलपुर से दुर्गूकोंदल मार्ग में है और लगातार लोगों की आवाजाही भी रहती है। इसके बाद भी इस अवैध कार्य को रोकने के लिए कोई भी सामने नहीं आ रहा है। इससे आने वाले समय में इस पुल को भी नुकसान हो सकता है। नियमानुसार जहां पर पुल बना है, वहां से लगभग 100 मीटर दूर तक रेत का खनन नहीं किया जा सकता। ऐसा करने से पुल को नुकसान हो सकता है। इसके बाद भी जिम्मेदार इस और कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं और धड़ल्ले से ट्रैक्टरों में भरकर रेत बाहर निकाला जा रहा है।

ग्रामीणों ने रोक लगाने कहा
क्षेत्र के ग्रामीणों ने इसे रोकने की मांग की है। इन दिनों पूरा देश कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन हैं और कांकेर जिले में भी 15 मई तक लॉकडाउन जिला प्रशासन द्वारा लगाया गया है। इसके बावजूद चवेला नदी में रेत माफिया द्व्रारा ट्रैक्टर, हाइवा से रेत का अवैध रूप से परिवहन किया जा रहा है।

जांच कर कार्रवाई की जाएगी
तहसीलदार आनंद नेताम ने कहा कि नियम विरुद्ध रेत खनन हो रहा है, तो इसकी जांच कर कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...