1506 ग्रामीण पॉजिटिव:2.21 लाख लोगों की मलेरिया जांच, चौथे चरण में वार्षिक परजीवी सूचकांक दर 10.21 प्रतिशत हुई

बीजापुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में मलेरिया मुक्त बस्तर अभियान का चौथा चरण पूर्ण हो गया है। इस बार स्वास्थ्य विभाग के मलेरिया जांच दलों ने 2 लाख 21 हजार 710 व्यक्तियों की जांच की। जिसमें 1506 लोग ही मलेरिया पॉजीटिव पाये गये। जिले में मलेरिया मुक्त बस्तर अभियान से वार्षिक परजीवी सूचकांक दर 54.52 प्रतिशत से सीधे 10.21 प्रतिशत हो गयी है।

मलेरिया मुक्त बस्तर अभियान की शुरुआत के बाद जिले में हरेक चरणों के दौरान स्वास्थ्य विभाग की टीम ने पूरी तरह समर्पित होकर काम किया। मलेरिया जांच दलों को बारिश के कारण नदी-नाले पार करने सहित पहुंचविहीन इलाकों में कई किलोमीटर पैदल चलकर जाना पड़ा। इन सभी चुनौतियों के बीच स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मलेरिया जांच जारी रखा और काम पूरा किया।

यही वजह है कि मलेरिया उन्मूलन अभियान में आशातीत सफलता हासिल हुई है। जिले में मलेरिया मुक्त बस्तर अभियान के प्रथम चरण में 2 लाख 87 हजार 699 लोगों की जांच की गयी, जिसमें पॉजीटिव पाये गये सभी 15 हजार 684 व्यक्तियों का उपचार किया गया। इस दौरान वार्षिक परजीवी सूचकांक दर 54.52 प्रतिशत थी।

तीसरे चरण में 1.95 लाख की जांच हुई थी
मलेरिया मुक्त बस्तर अभियान के तीसरे चरण में जिले के एक लाख 95 हजार 603 व्यक्तियों की जांच में 4 हजार 902 पॉजीटिव पाये गये मरीजों का उपचार किया गया। तृतीय चरण में वार्षिक परजीवी सूचकांक 25.06 प्रतिशत थी। कलेक्टर रितेश कुमार अग्रवाल ने कहा कि जिले में मलेरिया मुक्त बस्तर अभियान के चतुर्थ चरण को स्वास्थ्य विभाग की टीम ने पूरा कर लिया है। जिसमें मलेरिया पॉजीटिव मरीज पहले चरणों की अपेक्षा कम मिले हैं अब एपीआई दर भी 10.21 प्रतिशत रह गयी है।

खबरें और भी हैं...