बस्तर में ग्रामीणों का विरोध प्रदर्शन जारी:कई गांव के हजारों लोग फिर हुए लामबंद, पुलिया निर्माण और पुलिस कैंप बंद करने की मांग

बीजापुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ग्रामीण बर्तन लेकर विरोध प्रदर्शन करने पहुंचे हुए हैं। - Dainik Bhaskar
ग्रामीण बर्तन लेकर विरोध प्रदर्शन करने पहुंचे हुए हैं।

बस्तर के कई इलाकों में ग्रामीणों का प्रदर्शन अब भी जारी है। इस बीच बीजापुर में भी कई गांव के लोगों ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया है। इनकी भी मांग है कि पुलिस कैंप और पुलिया निर्माण का काम बंद होना चाहिए। इसके लिए हजारों की संख्या में लोग भैरमगढ़ जाने के लिए निकले थे। मगर पुलिस ने इन्हें रास्ते में रोक लिया। जिसके बाद भी इनका विरोध जारी है।

दरअसल, बीजापुर में पुंडरी-बोदली पुलिया का निर्माण कार्य जारी है। अब इसी का विरोध पुंडरी,ताकिलोड, बेलनार, मरकापाल, बागोली, सतवा, रेखबाया समेत अन्य गांव के लोगों ने शुरू कर दिया है। इसके लिए सोमवार को लोग पुंडरी पहुंचे थे। ये सभी भैरमगढ़ जाकर विरोध प्रदर्शन शुरू करना चाहते थे, लेकिन पुलिस ने पुंडरी में ही रोक लिया।

भैरमगढ़ जाने से पहले ही जवानों ने इन्हें रोक लिया।
भैरमगढ़ जाने से पहले ही जवानों ने इन्हें रोक लिया।

पुलिस के रोकने के बाद ग्रामीणों ने प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की और कहा कि जब राजनीतिक दल सभा करते हैं तो कोरोना नहीं फैलता। वहीं जब हम प्रदर्शन करते हैं तो कोरोना बढ़ जाता है। ग्रामीणों की मांग है कि पुंडरी-बोदली पुलिया का निर्माण बंद होना चाहिए। जल जंगल जमीन हमारा है, इसलिए इसे काटा ना जए। यहां जो भी नए पुल और पुलिस कैंप हैं, वह भी बंद होना चाहिए। ग्रामीणों का कहना है कि आदिवासी जान दे देंगे, लेकिन अपनी जमीन नहीं दंगे। ग्रामीणों ने साफ शब्दों में कहा है कि लोकसभा, विधानसभा से ऊपर ग्राम सभा है।

कई गांव के लोग प्रदर्शन में शामिल हुए हैं।
कई गांव के लोग प्रदर्शन में शामिल हुए हैं।

बस्तर में पुलिस कैंप के विरोध का ये कोई पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी ग्रामीण बस्तर के अलग-अलग इलाकों में विरोध कर रहे थे। अब भी कई जगहों पर इन्हीं मांगों को लेकर विरोध जारी है। इसके पहले सिलगेर, पुष्नेर,बेचापाल और कांकेर में लोग इसी तरह की मांग को लेकर लोग प्रदर्शन कर रहे थे।

खबरें और भी हैं...