पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नक्सलियों का आतंक:79 स्पाइक होल बरामद, स्निफर डॉग को हल्की चोट

दंतेवाड़ा8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जोड़ानाला से जगरगुंडा तक अभी सड़क निर्माण शुरू कराने से पहले सीआरपीएफ कर रही गश्त

जोड़ानाला से जगरगुंडा तक अभी सड़क निर्माण का काम बचा है। इसे शुरू कराने से पहले इन दोनों जगहों के बीच सीआरपीएफ 231 बटालियन की एक कंपनी स्थापित होगी। इसलिए नक्सलियों ने इस इलाके में होल्स कर लोहे की सरिया का जाल बिछाकर रखा है। मंगलवार को इस बटालियन के डिप्टी कमांडेंट मृत्युंजय कुमार, असिस्टेंट कमांडेंट शिवपाल यादव, विशाल कुमार जवानों के साथ गश्त पर निकले हुए थे। कोंडासावली इलाके में नक्सलियों के बिछाए स्पाइक्स होल की जाल में बाल-बाल बचे। हालांकि इनके साथ चल रहा स्निफर डॉग जरूर हल्की चपेट में आया है। जवानों ने इलाके की सर्चिंग पर 79 स्पाइक्स होल्स को बरामद किया है। इतनी बड़ी संख्या में स्पाइक्स व होल्स को देखकर जवान सतर्क हो गए। मंगलवार की देर शाम तक इलाके की सर्चिंग चलती रही।

इस फोटो के जरिए जानिए क्या होता है स्पाइक होल, इलाके से अब तक 179 स्पाइक्स बरामद कर चुके
लोहे की नुकीली सरिया को नक्सली गड्ढा खोदकर गाड़ते हैं। इन गढ्डों को लकड़ी और पत्तों से ढंक देते हैं ताकि पता न चल सके। कई बार इसमें आईईडी भी दबाते हैं। सर्चिंग पर निकले जवानों का पैर इसमें पड़ते ही सीधे गड्ढे में जाते ही नुकीली लोहे की सरिया से गंभीर हादसा हो जाता है। पहले जवान, मवेशी, ग्रामीण इसकी चपेट में आए हैं। हालांकि अब जवानों की सूझबूझ से इस नक्सलियों की चाल विफल हो रही है। 3 सालों में इस इलाके से 179 स्पाइक्स सीआरपीएफ के जवान बरामद कर चुके हैं।

अब भी इलाके में सबसे ज्यादा स्पाइक्स
इस इलाके में अब भी बड़ी संख्या में नक्सलियों ने स्पाइक होल बनाकर रखा है। ताकि जवानों के पहुंचते ही उन्हें बड़ा नुकसान उठाना पड़े। इसके पहले भी बड़ी संख्या में फोर्स के जवानों ने लोहे की सरिया वाले इस होल्स को बरामद किया है। नक्सली जोड़ानाला के आगे करीब 200 जगह कच्ची सड़क को काट भी चुके हैं।

खबरें और भी हैं...