पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

करमतपारा नाले पर पुल बनने से ग्रामीणों को राहत मिली:6 अन्य गांवों में ऐसे ही पुल बनेंगे, कुआकोंडा में 20 दिनों में प्रदेश का पहला स्टील ब्रिज तैयार, बारिश के बाद होगा शुरू

दंतेवाड़ा5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कुआकोंडा में बना स्टील का ब्रिज। - Dainik Bhaskar
कुआकोंडा में बना स्टील का ब्रिज।

कुआकोंडा में स्टील का ब्रिज बनकर तैयार हो गया है। करतमपारा के नाले पर बना यह ब्रिज इलाके के ग्रामीणों के लिए काफी फायदेमंद साबित होगा। फिलहाल पुल के दोनों तरफ मिट्टी फिलिंग का काम बचा है। ऐसे में अभी आवाजाही शुरू नहीं हो सकी है। लेकिन बारिश कम होते ही यहां ये काम भी हो जाएगा और ग्रामीणों को बड़ी राहत मिलनी शुरू हो जाएगी।

यह पुल महज 20 दिनों में तैयार हुआ है। प्रदेश में स्टील का ब्रिज बनाने की शुरुआत दंतेवाड़ा से ही हुई है। यह पहला स्टील ब्रिज है। अब जिले के 6 गांवों में भी इस तरह के ब्रिज बनने हैं। इस इलाके के ग्रामीणों ने बताया कि कुआकोंडा-मैलावाड़ा के बीच यह ब्रिज बनने से अब बारिश के दिनों में परेशानी नहीं होगी। मैलावाड़ा से गढ़मिरी, कुआकोंडा का शॉर्टकट रास्ता है।

इन जगहों में भी बनेंगे स्टील के ब्रिज

ब्लॉक गांव जहां पुल बनेंगे
कटेकल्याण दूधिरास, कोरीरास, बड़ेगुडरा
गीदम हिड़पाल, कासोली
कुआकोंडा नकुलनार

गांवों की कनेक्टिविटी सबसे ज्यादा जरूरी

कलेक्टर दीपक सोनी ने बताया कि गांवों की कनेक्टिविटी सबसे ज्यादा जरूरी है। जिले के अंदरूनी चयनित गांवों में स्टील के पुल बनाए जा रहे हैं। इसका फायदा ग्रामीणों को मिलेगा। पीडब्ल्यूडी के ईई जोसेफ थॉमस ने बताया कि कुआकोंडा में स्टील का ब्रिज बन गया है। बारिश के बाद 6 गांवों में और बनेंगे। सभी की लागत करीब साढ़े 3 करोड़ रुपए है।

कम समय में तैयार होते हैं, नक्सल क्षेत्र में फायदेमंद

नक्सल क्षेत्र में बड़े निर्माण कार्य में विरोध का सामना करना पड़ता है , इससे बचा जा सकता है। इस तरह के पुल बनाने सुरक्षा बलों के कैम्प की भी ज़्यादा आवश्यकता नहीं पड़ेगी। यह कम समय में तैयार होते हैं। यहां फायदेमंद साबित होंगे।​​​​​​​

खबरें और भी हैं...