दंतेवाड़ा में 24 एकड़ में बन रहा लोन वर्राटू हब:सरेंडर नक्सलियों को एक ही जगह मिलेगी आवास व रोजगार की सुविधा, होगा देश का पहला मॉडल, शहीद महेंद्र कर्मा के नाम की होगी कॉलोनी

दंतेवाड़ा5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में चलाए जा रहे लोन वर्राटू अभियान का एक साल पूरा हो गया है। इस अभियान के तहत अब तक 375 माओवादी सरेंडर कर चुके हैं। वहीं अब जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन के द्वारा सरेंडर नक्सलियों के पुनर्वास के लिए दंतेवाड़ा के पुलिस लाइन कारली में लोन वर्राटू हब बनाया जा रहा है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी इस हब के निर्माण का भूमिपूजन किया था। जिसके बाद से निर्माण काम भी शुरू हो गया है।

शहीद महेंद्र कर्मा कॉलोनी के नाम से होगा हब

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस हब का नाम शहीद महेंद्र कर्मा कॉलोनी रखने की घोषणा भी कर दी है। वहीं इस हब की खास बात है कि यह टाउनशिप की तरह होगा। अभी पहले चरण में 24 एकड़ में यह बनाया जा रहा है। इसके बाद इसे और बढ़ाया जाएगा। यहां सरेंडर नक्सलियों के लिए आवास से लेकर रोजगार के साधन एक ही जगह उपलब्ध होंगे। इसके लिए पूरी प्लानिंग बन गई है।

सरेंडर नक्सलियों को मिलेगी नई जिंदगी

सरेंडर के बाद नक्सलियों को जीने की नई राह देने कलेक्टर दीपक सोनी व एसपी डॉ अभिषेक पल्लव ने लोन वर्राटू हब की योजना बनाई। कलेक्टर ने तुरंत ₹ 2.70 करोड़ रुपए की स्वीकृति दी। कलेक्टर दीपक सोनी ने बताया कि सरेंडर नक्सलियों के पुनर्वास के लिए नई प्लानिंग के तहत काम शुरू किया गया है। ताकि वे सरकार की हर योजनाओं से जुड़ सकें।

IG बोले- देश का होगा पहला मॉडल

बस्तर IG सुंदरराज पी ने बताया दंतेवाड़ा में लोन वर्राटू अभियान के तहत सरेंडर माओवादियों के लिए बन रहा यह देश का पहला हब है, जहां आवास व रोजगार साथ- साथ होंगे, जिसे मॉडल के तौर पर ले रहे हैं। यहां के फीडबैक के बाद बस्तर के अन्य जगह पुनर्वास केंद्रों को डेवलप करेंगे। नक्सल उन्मूलन पर दंतेवाड़ा में बेहतर काम हो रहा है।

केवल सरेंडर उद्देश्य नहीं, उनको रोजगार से भी जोड़ना हैं

दंतेवाड़ा जिले के SP डॉ अभिषेक पल्लव ने कहा की लोन वर्राटू अभियान का अच्छा फायदा मिला है। अब तक 375 माओवादियों ने सरेंडर कर दिया है। वहीं कइयों के गांव जाने के बाद नक्सलियों द्वारा उन्हें परेशान करने की भी जानकारी मिली थी। वहीं सरेंडर के बाद यह नक्सली कहीं वापस न भटक जाएं, इस लिए लोन वर्राटू हब बनाया इन्हें मुख्यालय में शिफ्ट किया जाएगा। जहां इन्हें रोजगार भी मिलेगा।

लोन वर्राटू अभियान ने तोड़ी है नक्सलियों की कमर

दंतेवाड़ा पुलिस ने सालभर पहले लोन वर्राटू अभियान शुरू किया था। 28 जून 2020 को इस अभियान के तहत पहले नक्सली का सरेंडर कलेक्टर दीपक सोनी के सामने हुआ था। वहीं सालभर में 375 नक्सलियों ने सरेंडर कर लिया है। इनमें 99 इनामी भी शामिल हैं। इतने कम समय में बड़ी संख्या में सरेंडर का सबसे बड़ा आंकड़ा है। इस अभियान ने नक्सलियों की कमर तोड़ी है।

सर्व सुविधायुक्त होगा लोन वर्राटू हब

  • यहां पहले चरण में 36 क्वार्टर बन रहे। जो सिर्फ सरेंडर नक्सलियों के लिए होंगे। बाद में बढ़ाए जाएंगे।
  • ट्रांजिट हॉस्टल, सामुदायिक भवन बन रहा।
  • प्राइमरी स्कूल, आंगनबाड़ी बनेंगे। जहां सिर्फ सरेंडर नक्सलियों के बच्चे पढ़ाई करेंगे।
  • खाली पड़ी जगह में गोठान बनेंगे।
  • समूह की महिलाओं के लिए शेड बनेंगे जहां वे रोजगार मूलक काम करेंगी।
  • किराना, मोबाइल रिचार्ज, बिजली, टेलर सहित अन्य 20 दुकानें बनेंगी। जिसका संचालन खुद सरेंडर नक्सली ही करेंगे।
  • बकरी पालन, मुर्गी पालन, गाय पालन के लिए शेड बनेगा। डेयरी से दूध की सप्लाई भी वाजिब दामों पर होगी।
  • गार्डन बनेगा, पाइप लाइन बिछेगी, सड़क, बिजली जैसी और भी सुविधाएं होंगी।
  • यहां के ट्रांजिट हॉस्टल में नक्सलियों द्वारा गांव से भगाए गए या नक्सल भय से गांव छोड़ रहे नक्सल पीड़ित परिवार भी आकर रह सकेंगे।
खबरें और भी हैं...