पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

​​​​​​​आत्मनिर्भर:10 गांवों की महिलाएं अगले माह से बनाएंगी अगरबत्ती और दोना पत्तल, सब्जी भी उगाएंगी

देवभोग16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
देवभोग. बकरी पालन की जानकारी लेतीं गरियाबंद की महिलाएं। - Dainik Bhaskar
देवभोग. बकरी पालन की जानकारी लेतीं गरियाबंद की महिलाएं।
  • पद्मश्री फूलबासन बाई से प्रेरित होकर राजनांदगांव से प्रशिक्षण लेकर लौटे 15 महिला समूह

10 गांव की 15 महिला समूह पद्मश्री फूलबासन बाई यादव के रास्ते पर चलने की तैयारी कर रहे। स्वरोजगार से जुड़ने 50 महिलाएं 3 दिवसीय ट्रेनिंग लेकर लौटी हैं। अक्टूबर तक ये समूह दोना पत्तल, डेयरी, हर्बल अगरबत्ती व सब्जी की खेती शुरू करेंगी।

सप्ताहभर पहले जिला पंचायत सदस्य धनमती यादव के नेतृत्व में गिरसूल, भतराबहली, देवभोग, कदलीमुडा, लाटापारा, चिचिया, नवागुड़ा, मूंगझर, सुपेबेड़ा व मैनपुर के गांव के 15 से भी ज्यादा समूह से जुड़ी 50 महिलाएं राजनांदगांव जिले के 3 दिवसीय प्रवास पर गई थीं। बिहान आजीविका मिशन से जुड़ी ये महिलाएं पद्मश्री फूलबासन बाई से प्रेरित होकर उनके द्वारा महिला समूह के माध्यम से कराए जा रहे कार्यों को देखा और समझा। 3 दिन के प्रवास में गईं महिलाओं ने हर्बल अगरबत्ती, ऑर्गेनिक खेती, बंजर जमीन को उपजाऊ कर लगाए गए फलदार पेड़ों के बगीचे, बकरी पालन व डेयरी उद्योग को करीब से देखा।

हम उपलब्ध कराएंगे बाजार: फूलबासन बाई
फूलबासन देवी ने कहा महिला सशक्तिकरण की दिशा में सरकार की कदम सराहनीय है पर बीच की कड़ी में काम करने वालों के कारण अधिकतर समूह बाजार की अनुपलब्धता के कारण आगे नहीं बढ़ पाते। हम सरकार की योजनाओं से जोड़कर महिला समूह को आगे बढ़ाने का काम करेंगे।गरियाबंद जिले के देवभोग, मैनपुर व छुरा में बाजार की उपलब्धता के आधार पर पहले चरण में डेयरी, दोना पत्तल, हर्बल अगरबत्ती व आर्गेनिक खेती से काम शुरू करेंगे। योजनाओं के तहत लोन दिलाकर इस काम को अक्टूबर माह तक शुरू करने का लक्ष्य रखा गया है। 26 सितंबर से 3 दिन के लिए मैं जिले में रहकर लोन व अन्य कमियों को दूर करने समूह के साथ रहूंगी, ताकि काम जल्द शुरू हो सके।

महिला हिंसा रोकने तैयार की जाएगी दबंग दीदी
फूलबासन देवी ने बताया कि आजीविका के अलावा सामाजिक कुरीतियों को दूर करने में भी महिलाएं अहम भागीदारी निभाएंगी। शुरू में दबंग दीदी के लिए 50 महिलाओं को तैयार किया जाएगा, जो डंडा लेकर उन लोगों पर नजर रखेंगी जो महिलाओं पर जुल्म करती हैं। दबंग दीदी पुलिस की ग्राम सहयोगी सखी की भूमिका में होगी।

सशक्तिकरण सम्मेलन का सकारात्मक परिणाम
30 जुलाई को सर्व यादव समाज के प्रदेश अध्यक्ष रमेश यदु के नेतृत्व में देवभोग में आयोजित महिला सशक्तिकरण सम्मेलन का सकारात्मक परिणाम अब दिखने लगा है। समाज ने पद्मश्री फूलबासन यादव व जिले की एसपी पारूल माथुर की मौजूदगी में इस सम्मेलन का आयोजन कराया था। प्रदेश व जिले से शामिल होने पहुंची महिला शक्तियों ने महिलाओं को स्वरोजगार के साथ सामाजिक सरोकार के कार्य से जुड़ने प्रेरित किया था। फूलबासन देवी ने सभा से एलान भी किया था कि अपने मां बम्लेश्वरी स्वसहायता समूह द्वारा कराए जा रहे स्वरोजगार के हर काम यहां भी कराएंगी।

दो लाख महिलाएं जुड़ी हैं पद्मश्री फूलबासन के साथ
महिला सशक्तिकरण के लिए जीजान से जुटकर विदेशों तक ख्याति पाने वाली पद्मश्री फूलबासन बाई के साथ राजनांदगांव जिले के 14 हजार महिला समूह की 2 लाख महिला सदस्य जुड़ी हैं, जो योजनाओं से 52 करोड़ का लोन लेकर स्वरोजगार का काम कर रही हैं। सालाना 40 करोड़ की आमदनी भी हो रही है। फूलबासन देवी ने कहा कि अब मुझे अन्य जिले की महिलाओं को भी आजीविका की मुख्यधारा से जोड़ना है। गरियाबंद जिले की 50 महिलाओं को प्रशिक्षित करने के साथ इस अभियान की शुरुआत की है। बारी-बारी से सभी जिले में यह मुहिम चलाई जाएगी।

खबरें और भी हैं...