उठाई आवाज:मेहत्तरू स्कूल में हिंदी माध्यम में प्रवेश बंद, लोगों ने किया विरोध

धमतरीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • हिंदी माध्यम स्कूल चलाने वार्डवासियों ने कलेक्टर को दिया ज्ञापन

सरदार वल्लभ भाई पटेल और बठेना वार्ड के पार्षद और वार्डवासियों ने हिंदी माध्यम स्कूल को बंद करने का विरोध किया है। वार्ड में चल रहे मेहत्तरू राम धीवर शासकीय स्कूलों को हिंदी माध्यम से अंग्रेजी माध्यम किया गया है। यहां हिंदी माध्यम में नए बच्चों का प्रवेश बंद हो गया है। सिर्फ 10वीं से 12वीं की कक्षाएं चलेंगी। वार्डवासियों ने मंगलवार को कलेक्टर को आवेदन देकर हिंदी माध्यम स्कूल चलाने  की मांग की। पार्षद श्यामलाल नेताम, लुकेश्वरी साहू, संतोष साहू, देवा साहू, राजेश चंद्राकर आदि ने कहा कि दोनों वार्डों व प्राचार्य की बैठक में हिंदी और अंग्रेजी माध्यम दो शिफ्टों में संचालन की योजना बनी थी। हिंदी माध्यम स्कूल को बंद नहीं किया जाएगा। सुबह 7 से 12 बजे एवं दोपहर 12 से शाम 5 बजे तक स्कूल चलेगा। अब हिंदी माध्यम को पूर्ण रूप से बंद करने की योजना बना ली गई। तीन साल में इस स्कूल को पूरा अंग्रेजी माध्यम का बना लिया जाएगा। इसमें वार्डवासियों से सहमति भी नहीं ली गई। यदि स्कूल को बंद किया जाएगा तो विरोध प्रदर्शन करेंगे। सप्ताहभर में आश्वासन नहीं मिला तो स्कूल के सामने करेंगे प्रदर्शन: पार्षद श्यामलाल नेताम ने कहा कि स्कूल में 8वीं में 26 छात्रों ने पढ़ाई की। अब ये छात्र कौन से स्कूल में पढ़ेंगे। 9वीं की कक्षा बंद कर दी गई। नया एडमिशन भी नहीं हो रहा। उन्नयन शाला में 8वीं तक ही कक्षा लगेगी। 9वीं की कक्षा में जाने वाले 26 छात्रों को हटकेशर या अन्य दूसरे स्कूलों में जाना पड़ेगा। जो वार्ड से अधिक दूरी पर है। जिला प्रशासन को ज्ञापन देकर हिंदी माध्यम स्कूल संचालित करने की मांग की गई है। सप्ताहभर तक आश्वासन नहीं मिला तो वार्डवासियों के साथ स्कूल के सामने धरना प्रदर्शन करेंगे।

छात्रों की परेशानी बढ़ी
वार्ड में शासकीय उन्नयन माध्यमिक स्कूल, शासकीय मेहत्तरू राम धीवर हायर सेकेंडरी स्कूल, सरस्वती ज्ञान मंदिर स्कूल हैं। उन्नयन शाला में सिर्फ 8वीं तक ही पढ़ाई होती है। मेहत्तरू राम धीवर स्कूल में 8वीं पास करने वाले छात्रों को दूसरे वार्ड व दूर के स्कूलों में एडमिशन लेना पड़ेगा। सरस्वती ज्ञान मंदिर स्कूल निजी है। यहां भी 10वीं तक ही पढ़ाई होती है। वार्ड में एकमात्र 12वीं तक का स्कूल था, जिसे बंद किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...