पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गणेशाेत्सव में विघ्न:सांस्कृतिक कार्यक्रम बैंडबाजा, धुमाल, भंडारे पर लगाया प्रतिबंध

धमतरी7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

विघ्नविनाशक के उत्सव में एक बार फिर प्रशासनिक विघ्न आ गया है। संक्रमण से बचाने के लिए तय गाइडलाइन का सख्ती से पालन करने का आदेश जारी किया गया है। इसमें सांस्कृतिक कार्यक्रम, बैंडबाजा व धुमाल पर प्रतिबंध लगाया गया है। ऐसे में एक बार फिर उत्सव फीका पड़ सकता है। 10 सितंबर से गणेशोत्सव शुरू हाे गया। गणेश पंडालों में उत्साह है। ऐसे में संक्रमण के बढ़ने की आशंका है यही कारण कि इसे नियंत्रित करने के लिए आदेश जारी किए गए हैं।

कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी ने आदेश में कहा कि आयोजन समितियां कोविड-19 के संबंध में शासन द्वारा जारी एसओपी या गाइडलाइन का सख्ती से पालन करें। आयोजन स्थल पर पंडाल की साइज 15 वर्गफीट से कम रखें। प्रतिमा की अधिकतम ऊंचाई 8 फीट तक ही हाे। प्रतिमा पंडाल के सामने 500 फीट की जगह खाली हाे ताकि कि लोग छह फीट की दूरी से प्रतिमा को देख सकें। आदेश में यह भी कहा गया है कि पंडाल के सामने एक समय में 50 से अधिक लोग नहीं रह सकते और पंडाल के सामने कुर्सियां नहीं रखी जाएंगी। पंडाल में भोज, जगराता, संगीत मंडली, भंडारा या सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रतिबंधित रहेंगे। विसर्जन में बैंड बाजा, धुमाल और डीजे का प्रयोग नहीं किया जा सकेगा।

बीते साल भी थी यही स्थिति
बीते साल भी गणेशोत्सव पर काेराेना का साया था। नियमाें के तहत गणेशोत्सव मनाया गया था। भीड़ काे नियंत्रित करते हुए प्रतिमा स्थापना सहित अन्य औपचारिकताएं कराई गईं थीं। इस कारण कुछ समितियों ने ताे गणेश प्रतिमाओं की स्थापना भी नहीं की थी।

खबरें और भी हैं...