नकली सीआईडी:कार पर नीली बत्ती लगाकर प्लेट में लिखवाया सीआईडी, गिरफ्तार

धमतरी7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अवैध वसूली करने कांकेर जाते हुए पकड़ा गया

सेंट्रो कार में नीली बत्ती लगाकर लोगों को ठगने निकले शहर के एक ठग काे पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपी अपने कार पर सीआईडी (क्राइम इंटेलिजेंस डिटेक्टिव प्रेसिडेंट, छत्तीसगढ़) लिखवाकर रौबदार तरीके से घूम रहा था। पुलिस ने राेककर पूछताछ की ताे पहले खुद को सीआईडी अफसर बताया।

फिर कहने लगा भारत सरकार का आदमी हूं। अंतत: सबकुछ फर्जी निकला। पुलिस ने गिरफ्तार कर जेले भेज दिया है। कार के अंदर मीडिया वालों की तरह कैमरा, माइक आैर वॉकी-टॉकी रखा था। पुलिस पता कर रही है आराेपी ठग ने किस-किस काे ठगा है। जानकारी के मुताबिक 11 अप्रैल को शाम करीब 4.30 बजे पुलिस को सूचना मिली कि सफेद रंग की सेंट्रो कार सीजी 07 एलए 9999 कांकेर की अाेर जा रही है। इसमें नंबर के अलावा सीआईडी लिखा है। नीली बत्ती भी लगी है। अंबेडकर चाैराहे पर पेट्रोलिंग पार्टी एवं यातायात प्रभारी गगन वाजपेयी अाए। गाड़ी काे राेक पूछताछ की। चालक ने नाम अजय दास (50) सिविल लाइन निवासी बताया। काली टी-शर्ट और सैनिकाें की तरह पेंट पहने हुए था। पूछताछ की गई तो सबकुछ फर्जी निकला।

गाड़ी के नंबर, नाम से हुआ था फर्जी हाेने का शक
कोतवाली टीआई नवनीत पाटिल ने बताया कि कार पर नीली बत्ती और पुलिसिया रंग के स्टीकर देखकर पुलिस को शक हुआ। चौराहे पर तैनात पुलिस ने गाड़ी रोककर पूछताछ की। कार में क्राइम इंटेलिजेंस डिटेक्टिव प्रेसीडेंट, छत्तीसगढ़ (सीआईडी) लिखा था। सामने कांच पर भारत सरकार, पीछे नंबर प्लेट पर ऑल इंडिया क्राइम सीआईडी लिखवा रखा था। इतना ही नहीं, गाड़ी की जांच में पुलिस को एक वॉकी-टॉकी भी मिला है। पुलिस अब छानबीन कर रही है कि अपने इस अंदाज से अजय दास ने किस-किस को ठगा है।

पहले पत्रकार बनकर लोगों को धमकाता था
पुलिस जांच में खुलासा हुआ कि गिरफ्तार आरोपी अजय दास पहले खुद को पत्रकार बताकर घूमता था। सरकारी दफ्तरों में अफसरों को धमकाता अवैध वसूली करता था। कार में बकायदा कैमरे, माइक, वॉकी-टॉकी रखे हुए था। कार का नंबर वीआईपी रखा था ताकि किसी को शक न हाे। कोतवाली पुलिस ने पूछताछ के बाद सीअाईडी बनकर ठगने निकले युवक अजय दास को गिरफ्तार कर जेल भेजा है।

खबरें और भी हैं...