निडरता और दुस्साहस में अंतर होता है साहब:कलेक्टोरेट हो या स्कूल, न दूरी का ध्यान रखा जा रहा और न मास्क का

धमतरीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
धमतरी. बैठक में उपस्थित कलेक्टर सहित कई अफसरों ने मास्क नहीं लगाया था, सैनिटाइजर भी नहीं था। - Dainik Bhaskar
धमतरी. बैठक में उपस्थित कलेक्टर सहित कई अफसरों ने मास्क नहीं लगाया था, सैनिटाइजर भी नहीं था।

कोरोना की दो लहरों में जिले में 12 साल तक 1638 बच्चे संक्रमित हो चुके हैं, वहीं स्कूल खुलने के बाद अब तक 9 बच्चे पॉजिटिव हो चुके हैैं। अब 100% उपस्थिति के साथ स्कूलों में पढ़ाई शुरू हो गई है, लेकिन कोविड नियमों का पालन स्कूलों में नहीं हो रहा है। क्योंकि अफसर और शिक्षक खुद नियम तोड़ रहे हैं। स्कूल खुलने के बाद पॉजिटिव हुए बच्चों की संख्या के सवाल पर जिला शिक्षा विभाग की तनूजा साहू ने बताया कि इसका अभी कोई रिकॉर्ड नहीं है।

भास्कर ने मंगलवार को शहर के स्कूलों और कलेक्टोरेट के दफ्तरों की पड़ताल की। गोकुलपुर के स्कूल में दोपहर 12.30 बजे बच्चों में सोशल डिस्टेसिंग नहीं थी। शिक्षक बिना मास्क के थे, अधिकांश बच्चे मास्क गले के नीचे लटकाए दिखे। यहां एक ही कैंपस में पहली से 12वीं तक के करीब 1 हजार बच्चे पढ़ते हैं।

दिसंबर में ही 2 बच्चे मिले पॉजिटिव एक स्कूल 5 दिन के लिए किया बंद
अगस्त से स्कूलों में ऑफलाइन पढ़ाई शुरू हुई है। इसके बाद 9 बच्चे संक्रमित हुए हैं। जिले में पहली से लेकर 12वीं तक दर्ज संख्या 1 लाख 65 हजार 935 हैं। इनमें से करीब 1.25 लाख बच्चे रोज स्कूल जाते हैं। 4 दिसंबर को रायपुर में पढ़ने वाला 7 साल का छात्र धमतरी में अपने घर पॉजीटिव मिला। धमतरी में ही 2 दिसंबर को दानीटोला के गुरुकुल विद्यासागर स्कूल का 5 साल का छात्र संक्रमित मिला है। स्कूल को 5 दिन के लिए बंद भी किया गया था।

कलेक्टोरेट में सैनिटाइजर नहीं कलेक्टर भी बिना मास्क के दिखे
कलेक्टोरेट में कलेक्टर पीएस एल्मा ने मंगलवार को समय-सीमा की बैठक ली। इसमें 50 से अधिक अफसर थे, लेकिन ज्यादातर बिना मास्क के दिखे। कई अफसरों ने तो मास्क लगाया पर ये भी गले से नीचे लटक रहा था। कलेक्टर, जिपं सीईओ ने भी मास्क नहीं लगाया था। टेबल पर सैनिटाइजर नहीं था। हालांकि ज्यादातर अफसर खुद की पानी बॉटल लेकर आए। विभागीय दफ्तरों में भी सैनिटाइजर नहीं है। अफसर, कर्मचारी बगैर मास्क के नजर आए।

सभी बीईओ को कोविड नियमों का पालन कराने लिखा था पत्र: डीईओ
डीईओ रजनी नेल्सन ने 4 नवंबर को सभी बीईओ, स्कूल प्राचार्याें को आदेश जारी किया। पत्र के जरिए कहा कि कोविड-19 संक्रमण काल में प्रोटोकाल को ध्यान में रखकर स्कूल में शत-प्रतिशत उपस्थिति के साथ संचालित करें। वर्तमान में ओमिक्रॉन की दहशत है। सफाई, मास्क लगाने, हाथ धुलाई, सोशल डिस्टेिसंग नियम का पालन कराने कहा है, लेकिन बच्चे सैनिटाइजर को खेल-खेल में यदि पी जाते है, तो बड़ी अनहोनी से इनकार नहीं किया जा सकता।

खबरें और भी हैं...