पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सतर्क रहें:गार्डन में उत्पात के बाद हाथी बालोद की ओर बढ़े

धमतरी3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कसावाही में धान फसल को रौंदा, हाथियों पर नजर रखने अधिकारी- कर्मचारियों की लगी ड्यूटी

गंगरेल के गार्डन में उत्पात मचाने के बाद चंदा हाथी का दल वापस बालोद जिले की ओर बढ़ रहा है। सोमवार की रात कसावाही क्षेत्र में वापस पहुंच गया है। क्षेत्र में लगे धान फसलों को खूब नुकसान पहुंचाया है। रात में लाइट बंद होने से ग्रामीणों में दहशत का माहौल है। हाथियों कर निगरानी में 4 गांव में 10-10 अधिकारी, कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई है। चंदा हाथियों का दल अभी भी धमतरी और बालोद जिले की सीमा पर ही है। 10 किमी के क्षेत्र में घूम रहा है। पिछले दिनों गंगरेल गार्डन में जमकर उत्पात मचाने के बाद वन विभाग ने खदेड़ा। इसके बाद हाथियों का दल कसावाही क्षेत्र में गया। कसावाही के ग्रामीणों ने बताया कि रात में खेत में हाथियों के गुजरने से धान के फसल को नुकसान हुआ है। कुछ दिनों पहले कसावाही में ही यह दल था। रात में लाइट बंद रहती है इसलिए डर का माहौल है।

अधिकारी-कर्मचारियों की लगी ड्यूटी: धमतरी रेंजर महादेव कन्नौजे ने बताया कि चंदा हथिनी का दल गंगरेल से आगे बढ़ गया है। मंगलवार की रात आमापानी, विश्रामपुर, कसावाही और मड़वापथरा 4 जगह 10 -10 लोगों की टीम तैनात की गई है। जहां भी हाथी हाेंगे वहां पहुंच कर आगे की कार्रवाई करेंगे।

बंद ही रहेगा गंगरेल
चंदा हथिनी के साथ करीब 22 हाथियों का दल गंगरेल बांध तक अाया। बांध में खूब पानी होने से गेट पार नहीं कर पाए। हाथियों ने गंगरेल गार्डन में घुसकर तोड़फोड़ की। झूले, पेड़-पौधों को नुकसान पहुंचाया। यह गार्डन करीब 7 करोड़ की लागत से बना है। गंगरेल में धमतरी सहित दूसरे जिलों और अन्य प्रदेशों से पर्यटक आते है। जनहानि को ध्यान में रखकर कलेक्टर ने गंगरेल में पर्यटकों के आने पर रोक लगाई है। गंगरेल में लोगों का आना-जाना करीब 4 दिन से बंद है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप अपने व्यक्तिगत रिश्तों को मजबूत करने को ज्यादा महत्व देंगे। साथ ही, अपने व्यक्तित्व और व्यवहार में कुछ परिवर्तन लाने के लिए समाजसेवी संस्थाओं से जुड़ना और सेवा कार्य करना बहुत ही उचित निर्ण...

    और पढ़ें