विश्व सिजोफ्रेनिया दिवस आज / पारिवारिक झगड़े और नशे से बढ़ रहे मरीज

Family growing up due to family quarrels and intoxication
X
Family growing up due to family quarrels and intoxication

  • डॉक्टर बोले- दवा के साथ परिवार का सहयोग मिलना जरूरी

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

धमतरी. विश्व सिजोफ्रेनिया दिवस आज मनाया जा रहा है। सिजोफ्रेनिया एक जटिल मानसिक बीमारी है, जिसमें मनुष्य अपने दिमाग में अपनी एक अलग काल्पनिक पहचान विकसित कर लेता है। पहले इस बीमारी से बच्चे अछूटे थे लेकिन तनाव, पारिवारिक झगड़े और नशे करने से अब ये बच्चों को भी अपनी गिरफ्त में ले रहा है।
मनोरोग चिकित्सा डॉ.रंजना पद्मवार ने कहा कि जिला अस्पताल में ऐसे मरीज रोज 5 से 8 पहुंच रहे हैं। सालभर में जिले में इस बीमारी से पीड़ित 35 मरीज ठीक हुए हैं। डॉ. पद्मवार टीम के साथ जिले के क्वारेंटाइन सेंटरों में जाकर ऐसे बीमारी के मरीज ढूंढ रहे हैं।
माता-पिता पीड़ित तो बच्चे को 40% की संभावना 
डॉक्टर के मुताबिक सिजोफ्रेनिया के मरीज अक्सर गुमसुम रहते हैं। न किसी से बात करते हैं और न ही किसी से मिलना पसंद करते हैं। अपने आप में कुछ बोलते रहते हैं। माता-पिता को सिजोफ्रेनिया हो, तो 40 प्रतिशत लक्षण बच्चों में होने के रहते हैं। यदि माता या पिता दोनों में किसी एक को सिजोफ्रेनिया बीमारी हो, तो बच्चों में यह बीमारी लगने के 20 प्रतिशत आशंका होती है।
ठीक होकर काम में जाने लगी
मगरलोड की मनीषा (25)सिजोफ्रेनिया की शिकार हो गई। वह अपने आप कुछ भी बोलती रहती थी। परिजन इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया। तब पता चला कि उसे सिजोफ्रेनिया है। करीब 11 माह के इलाज के बाद वह पूरी तरह स्वस्थ हो गई। 
हाथों को चाकू से जख्मी कर दिया
बालोद निवासी दुर्गेश (30) अपने आप को नुकसान पहुंचा रहा था। मोहल्लों में इधर-उधर भटकता रहता था। घर में विवाद करना, ज्यादा नशे करने लगा था। उसे जिला अस्पताल लाकर मनोरोग चिकित्सक को दिखाया। 1 साल दवा के साथ परिवार का सहयोग मिला। वह स्वस्थ हो गया।
इसलिए होती है यह बीमारी

  • ज्यादातर युवा वर्ग इसकी प्रभावित होते हैं। इसका कारण आनुवांशिक, काम का तनाव, पारिवारिक विवाद, गांजा आदि नशीले पदार्थों का उपयोग करना।
  • सिज़ोफ्रेनिया किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकता है। अन्य बीमारियों की तरह ही यह रोग भी परिवार के करीबी सदस्यों में अनुवांशिक रूप से जा सकती है।
  • मस्तिष्क में रासायनिक बदलाव या कभी-कभी मस्तिष्क की कोई चोट भी सिजोफ्रेनिया की वजह बन सकती है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना