पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना की दहशत:पहली बार जिला अस्पताल में खून की कमी रोज 12 यूनिट चाहिए, ब्लड बैंक में 38 बाकी

धमतरी14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 600 यूनिट रखने की क्षमता है पर कोरोना के कारण ब्लड दान करने नहीं आ रहे लोग
  • युवाओं से उम्मीद क्योंकि टीका लगने के बाद 68 दिन तक नहीं कर सकेंगे रक्तदान

कोरोना संक्रमण काल में लोग खून देने से डर रहे है। इसका नतीजा यह कि 200 बिस्तर के जिला अस्पताल के ब्लड बैंक में पहली बार खून की कमी हाे गई है। यहां मात्र 38 यूनिट खून यानी 3 दिन का ही स्टॉक है। बीते महीनेभर से कोई शिविर भी नहीं लगा है। इसका सीधा असर खून की उपलब्धता पर पड़ा है। रोजाना 12 से 15 यूनिट खून की खपत होती है। यदि यहीं स्थिति रही तो ब्लड की कमी से लोगों को परेशान हाेना पड़ सकता है।

1 मई से 18 साल से 44 साल तक के लोगों को वैक्सीन लगाई जा रही है। ब्लड बैंक पहुंचने वाले रक्तदाताओं में इसी आयु वर्ग के लोगों की संख्या भी अधिक है, लेकिन रक्तदाताओं के मन में कोरोना काल का डर बैठ गया है। ऐसे में खून देने के लिए लाेग नहीं आ रहे हैं। जिले में थैलेसीमिया व सिकलसेल के मरीजों की संख्या करीब करीब 100 है। हर माह इस बीमारी के पीड़ितों को ब्लड बैंक में खून चढ़ाया जाता है। कई पीड़ितों को हर 8 से 10 दिन में खून की जरूरत होती है।

अभी प्लाज्मा की अधिक जरूरत:
स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक अब तक जिले में 19950 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। इनमें करीब 6 हजार 234 मरीज एक्टिव हैं। कोविड मरीजों काे ब्लड से ज्यादा प्लाज्मा की जरूरत पड़ रही है। इसलिए कोविड पॉजिटिव हो चुके लोगों को अधिक से अधिक प्लाज्मा के लिए रक्तदान करना चाहिए, ताकि ऐसे लोगों की जिंदगी बचाई जा सके।

कोरोना संक्रमण के दौर
में लोग रक्तदान से डर रहेजिला अस्पताल के ब्लड बैंक में ब्लड रेफ्रिजरेटर 2 है। क्षमता 600 यूनिट है। जिले में कोरोना तेजी से बढ़ा। इस कारण रक्तदान कराने वाले अस्पताल आने में घबरा रहे हैं। जिला अस्पताल के ब्लड बैंक में भी खून की कमी बनी हुई है।

हर रोज 18 से 20 यूनिट की होती है जरूरत
जिला अस्पताल में रोज 12 से 15 मरीजों को ब्लड की जरूरत पड़ती है। सभी को उपलब्ध कराया जा रहा हैं। इनके लिए परिजन को डोनर लाना पड़ता है। कुछ ऐसे भी हैं, जो ब्लड चढ़वाने के बाद बिना डोनर लाए कई बार भाग जाते हैं।

सिर्फ 3 दिन के लिए स्टाक बचा: डॉक्टर
एमडी पैथोलॉजिस्ट डॉ. अपूर्वी अग्रवाल ने बताया वर्तमान में 18 प्लस युवाओं को टीका लग रहा है, इसलिए वे वैक्सीनेशन से पहले रक्तदान करें, क्योंकि टीके के 68 दिन बाद ही वे रक्तदान कर पाएंगे। जिला अस्पताल में 38 यूनिट ब्लड ही है। खपत के मुताबिक यह 3 दिन के लिए ही बाकी है।

यहां 5 जिलों से आते हैं मरीज
जिला अस्पताल धमतरी में जिले के अलावा बालोद, कांकेर, गरियाबंद, बस्तर, दुर्ग समेत ओडिशा राज्य से भी मरीज इलाज कराने आते हैं। इस वजह से यहां रोज की ओपीडी 500 से अधिक है। हालांकि अभी कोरोना काल के कारण जिला अस्पताल की ओपीडी एक चौथाई हो गई है।

इसलिए जरूरी रक्तदान

  • अभी सामान्य सर्जरी पर रोक लगी है, लेकिन कोरोना संक्रमितों सहित थैलेसिमया, कैंसर, गर्भवती, सड़क दुर्घटना आदि मामलों में खून की मांग है।
  • ब्लड बैंक में रखे ब्लड 35 दिन बाद एक्सपायर हाे जाता है। हालांकि जिला अस्पताल में अभी तक ऐसी स्थिति नहीं बनी हैं।

हर माह इतनी ब्लड की जरूरत

  • प्रसव, ऑपरेशन, एनीमिया के मरीजों को- 300 से 350 यूनिट
  • सिकलसेल मरीजों को- 100 से 120 यूनिट
  • थैलेसिमिया मरीजों को- 80 से 100 यूनिट
खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा व्यवहारिक गतिविधियों में बेहतरीन व्यवस्था बनी रहेगी। नई-नई जानकारियां हासिल करने में भी उचित समय व्यतीत होगा। अपने मनपसंद कार्यों में कुछ समय व्यतीत करने से मन प्रफुल्लित रहेगा ...

    और पढ़ें