पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

निमोनिया से रक्षा:बच्चों को पहली बार सरकार लगवाएगी निमोनिया टीका, जून में लगाने की तैयारी

धमतरी21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • डेढ़ से 9 महीने तक के बच्चों को लगेंगे 3 डोज, 1500 बच्चों के टीकाकरण का लक्ष्य

भास्कर न्यूज | धमतरी कोरोना संकट के बीच जिले के बच्चों की जीवनरक्षा से जुड़ी एक और अच्छी खबर आई है। अब प्रदेश सहित धमतरी में पहली बार डेढ़ महीने के बच्चों को निशुल्क न्यूमोकोकल (निमोनिया) का टीका सरकारी स्तर पर भी लगेगा। फिलहाल इसकी तारीख नहीं आई है, लेकिन जून में लगाने की तैयारी है। इस टीके की कीमत बाजार में करीब 3 हजार रुपए है। यह वैक्सीन छोटे बच्चों को होने वाली बैक्टीरियल निमोनिया बीमारी से रक्षा करेगी।

न्यूमोकोकल टीका पहली बार सरकारी कार्यक्रम में शामिल किया गया है। अब तक यह निजी अस्पतालों में ही लगाया जाता था। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक जिले में करीब 1500 बच्चों के टीकाकरण का लक्ष्य रखा है। इसमें डेढ़ महीने से 9 महीने के बच्चों को न्यूमोकोकल के 3 डोज लगेंगे। एक-दो दिन में वैक्सीन की पहली खेप आएगी। फिर जून के पहले सप्ताह में बच्चों को लगाई जाएगी। इसकी जानकारी जिला अस्पताल के सिविल सर्जन सहित सभी बीएमओ को दी गई है।

1500 बच्चों को लगाने की तैयारी: डॉ. बीके साहू
जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. बीके साहू ने बताया कि बच्चों को निमोनिया से बचाने के लिए जिले में पहली बार सरकारी स्तर पर न्यूमोकोकल का टीका लगेगा। यह टीका बाजार में काफी महंगा है और केवल निजी अस्पतालों में ही लगता है। अब टीका निशुल्क लगने से शिशु मृत्यु दर रोकी जा सकेगी। जिले में करीब 1500 लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य है। टीकाकरण की तारीख नहीं आई है।

न्यूमोकोकल बैक्टीरिया से हाेती है बीमारी
न्यूमाेकाेकल एक बैक्टीरिया है। इसके कारण बच्चों को निमोनिया, छाती में मवाद भरना, दिमागी बुखार, कान से पानी आना, गले, खून में संक्रमण जैसी शिकायतें सामने आती हैं। शून्य से 5 वर्ष तक के बच्चों की कुल मौत में 18 से 20 फीसदी का कारण न्यूमोकोकल को माना जाता है। न्यूमोकोकल बैक्टीरिया 80 तरह के होते हैं। यह टीका सरकार द्वारा उपलब्ध न कराने और निजी अस्पतालों में महंगा होने की वजह से महज 5 फीसदी बच्चों को ही यह लग पाता था।

इस तरह से लगेगा टीका
जन्म के डेढ़ महीना (6 सप्ताह) पर पीसीवी-1, साढ़े 3 महीने (14 सप्ताह) पर पीसीवी-2 और 9 महीना यानी 36 सप्ताह की उम्र में बच्चे को निमोनिया का बूस्टर डोज दिया जाएगा।

बाजार में 3000 रुपए का गरीबों की जद में नहीं
निमोनिया से निजात दिलाने वाले न्यूमोकोकल वैक्सीन की बाजार में कीमत करीब 3000 रुपए है। एक बच्चे को 3 बार टीके लगते हैं। यानी 3 टीके पर करीब 9000 रुपए खर्च करने पड़ते थे। बाजार में कीमत अधिक होने से यह टीका लगवाना गरीबों के बस में नहीं था।

न्यूमोकोकल वैक्सीन से मिलेगा बच्चों को लाभ

  • हर वर्ग के बच्चों को सरकारी अस्पताल में निशुल्क टीका उपलब्ध होगा।
  • बच्चों को निमोनिया, दिमागी बुखार जैसे कई संक्रमण से बचाएगा।
  • प्रदेश सहित जिले में होने वाली शिशु मृत्यु दर में कमी आएगी।
खबरें और भी हैं...