पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

दीपोत्सव:कुरूद में निकली गौरी-गौरा की शोभायात्रा, किया गया विसर्जन

कुरुद3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • दीपावली के दिन गौरा व गौरी की प्रतिमाओं के साथ विवाह की रस्में होती हैं

छत्तीसगढ़ के लोक पारम्परिक पर्व दीपावली कुरूद और ग्रामीण अंचलों में धूमधाम से मनाया गया। नगर के सरोजनी चौक, दानीपारा, पचरीपारा, संजय नगर, सिरसा चैक, बजरंग चौक, गोड़ पारा सहित खैरा, कोकडी, चर्रा, मोंगरा, कातलबोड़, बानगर, नवागांव, सिवनी, बारना, सेमरा, उमरदा, गाड़ाडीह, परखंदा, मंदरौद, सेलदीप, जोरातराई, चरमुड़िया, गोबरा, राखी आदि गांवों में गौरा-गौरी की स्थापना की गई। चार दिनों तक विवाह की विभिन्न रस्मों को विधि-विधान के साथ पूरा किया गया। चतुर्दशी पर चूलमाटी लेने गौरा-गौरी विवाह की शुरुआत धनतेरस के दिन से होती है। चौदस के दिन सुबह चूलमाटी समेत अन्य रस्म होती है। दीपावली के दिन गौरा व गौरी की प्रतिमाओं के साथ विवाह की रस्में होती हैं। गोवर्धन पूजा के दिन गौरा व गौरी की प्रतिमा का तालाबों व नदियों में विसर्जन किया जाता है। प्रतिमाओं की स्थापना करके शिव-पार्वती का ब्याह कराने की परंपरा निभाई जाती है। रातभर भजन-कीर्तन व गीत गाए। अगले दिन गोवर्धन पूजा के बाद गाजे-बाजे के साथ प्रतिमाओं को नदी-तालाब में विसर्जित किया गया। गाेवर्धन पूजा पर किसानों ने गायो की पूजा कर खिचड़ी खिलाई। यादव बंधुओं ने गौ माता को सोहई बांधा। गांव के साहड़ा देव में गोवर्धन पूजाकर गांव की सुख शांति की कामना के साथ गोबर का तिलक लगाया। एक-दूसरे को दीपावली पर्व की बधाई दी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थिति आपके लिए बेहतरीन परिस्थितियां बना रही है। व्यक्तिगत और पारिवारिक गतिविधियों के प्रति ज्यादा ध्यान केंद्रित रहेगा। बच्चों की शिक्षा और करियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी आ...

    और पढ़ें