पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अच्छी पहल:विंध्यवासिनी ट्रस्ट से कोविड मुक्तिधाम में बनेगा शेड

धमतरीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पहली बार मंदिर का पैसा जनसेवा में हाेगा खर्च, मुक्तिधाम में प्रतीक्षालय का किया जाएगा निर्माण

जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की मौतें लगातार बढ़ रही हैं। नगर निगम द्वारा मृतकों का अंतिम संस्कार वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट के बगल में स्थित खाली जगह को कोविड मुक्तिधाम बनाकर कर रही है, लेकिन यहां न तो पानी की व्यवस्था है और नही छांव है। बरसात के दिनों में शव का अंतिम संस्कार करने में भी दिक्कत होने की संभावना है।

इसे ध्यान में रखकर मां विंध्यवासिनी मंदिर ट्रस्ट ने यहां पानी, छांव के लिए शेड और परिजनों के लिए प्रतीक्षालय बनाने का फैसला लिया है। गुरुवार को मंदिर समिति ट्रस्ट के पदाधिकारी सहित महापौर, निगम आयुक्त कोविड मुक्तिधाम गए व निरीक्षण किया। नगर निगम के मुताबिक शेड, प्रतीक्षालय बनाने में करीब 5 लाख खर्च होंगे। अब यह राशि विंध्यवासिनी मंदिर ट्रस्ट खर्च करेगा। इस मौके पर महापौर विजय देवांगन, सभापति अनुराग मसीह, नेता प्रतिपक्ष नरेंद्र रोहरा, निगम आयुक्त मनीष मिश्रा, मंदिर ट्रस्ट अध्यक्ष आनंद पवार, पार्षद दीपक सोनकर, एल्डरमेन सूर्याराव पवार, महेंद्र खंडेलवाल, आलोक जाधव, नंदू जसवानी आदि उपस्थित थे।

एक साथ 4 शवों का अंतिम संस्कार हाे पाएगा: महापौर विजय देवांगन, ईई राजेश पद्मवार सहित अन्य जनप्रतिनिधियों ने 30 अप्रैल को कोविड मुक्तिधाम का निरीक्षण किया था।

मां विंध्यवासिनी करेंगी छांव की व्यवस्था: अध्यक्ष
मां विंध्यवासिनी मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष आनंद पवार ने बताया कि जिले में कोरोना महामारी भयवाह स्थिति पर है। लगातार जिले में संक्रमितों की मौत बढ़ रही। 4 से 5 मृतकों का अंतिम संस्कार के लिए लेकर कोविड मुक्तिधाम गए। गर्मी में छांव की व्यवस्था नहीं थी। शव रखने जगह नहीं थी। परिजन तेज धूप में खड़े दिखे। निगम के कर्मी पीपीई किट पहनकर पसीने से तरबतर होकर भी अंतिम संस्कार करते रहे। कोविड मुक्तिधाम में यह सब देखकर अच्छा नहीं लगा। मंदिर ट्रस्ट के पदाधिकारियों के संपर्क किया। सभी को कोविड मुक्तिधाम की समस्याओं के संबंध में बताया। सभी ने कहा नगर की आराध्य देवी मां विंध्यवासिनी हम सब को छांव दे रही है।

250 शव का हो चुका अंतिम संस्कार
जिले में कोरोना संक्रमित 428 मरीजों की मौत हो गई है। इन सभी मृतकों का अंतिम संस्कार कोविड-19 के तहत हुआ। इनमें से करीब 250 मृतकों का अंतिम संस्कार नगर निगम कर्मियों ने कोविड मुक्तिधाम में किया है। जबकि अन्य 178 मृतकों का अंतिम संस्कार नगरी, कुरूद, रायपुर सहित अन्य जगहों पर हुआ है।

खबरें और भी हैं...