पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

हक की लड़ाई:चिटफंड का पैसा वापस लेने राजधानी तक पैदल मार्च शुरू

धमतरी3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पंडाल और राशन साथ लेकर निकले लोग, 25 फरवरी को रायपुर में सीएम को देंगे ज्ञापन

कांग्रेस सरकार ने 2 साल पहले चुनावी घोषणा पत्र में चिटफंड की राशि वापस दिलाने आश्वासन दिया था, लेकिन अभी तक पैसे वापस नहीं हुए। अब सरकार को 2 साल पुरानी घोषणा याद दिलाने सोमवार से छत्तीसगढ़ अभिकर्ता व उपभोक्ता संघ ने गांधी मैदान से राजधानी तक पैदल मार्च शुरू कर दिया। रास्तेभर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। ये लोग साथ में पंडाल, खाने-पीने का सामान लेकर चल रहे हैं। इनकी निगरानी तहसीलदार और टीआई कर रहे हैं। छत्तीसगढ़ में 2015 से 2018 तक 30 से अधिक चिटफंड कंपनियां शुरू हुई। धमतरी सहित प्रदेशभर के करीब 20 लाख निवेशक परिवार के 10 हजार करोड़ रुपए से भी अधिक रकम गबन कर भाग गए। वापसी के लिए संघ द्वारा छत्तीसगढ़ के पूर्व भाजपा सरकार के दौरान अनेक धरना प्रदर्शन किए। भूख हड़ताल कर आंदोलन करते हुए शासन से कार्रवाई की मांग की। अब छत्तीसगढ़ अभिकर्ता एवं उपभोक्ता सेवा संघ ने सोमवार को गांधी चौक धमतरी से पदयात्रा निकाली। मुख्य मार्ग होते कुरूद तक गए। यहां रात रुकने के बाद सुबह अभनपुर के लिए रवाना होंगे। 25 फरवरी को रायपुर में मुख्यमंत्री निवास जाकर ज्ञापन देंगे।

5 साल तक लोगों को ठगती रहीं कंपनियां
पुलिस के मुताबिक जिले में 2010 से 2015 के बीच चिटफंड कंपनियों का जाल था। ज्यादातर कंपनियों ने ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को रकम डबल करने का झांसा देकर निवेशक बनाया। प्रदेश सहित बाहर की चिटफंड कंपनियां जिलेभर में सक्रिय रहीं। अब तक 25 से अधिक चिटफंड कंपनियों के खिलाफ शिकायत हो चुकी है। इनमें से 20 से अधिक कंपनियों के खिलाफ अपराध दर्ज हो चुके हैं। पुलिस ने धोखाधड़ी के आरोप में 21 चिटफंड कंपनियों के 33 संचालक, 21 एजेंट और 8 पदाधिकारियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आपकी प्रतिभा और व्यक्तित्व खुलकर लोगों के सामने आएंगे और आप अपने कार्यों को बेहतरीन तरीके से संपन्न करेंगे। आपके विरोधी आपके समक्ष टिक नहीं पाएंगे। समाज में भी मान-सम्मान बना रहेगा। नेग...

    और पढ़ें