पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बंपर खरीदी:5 साल में पहली बार रिकॉर्ड 42.76 लाख क्विंटल धान खरीदा, फिर भी लक्ष्य से दूर

धमतरी3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 89 केंद्रों में 25 लाख क्विंटल धान जमा, लक्ष्य से 1.23 लाख क्विंटल कम हुई खरीदी

समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी निर्धारित तारीख से 2 दिन पहले 29 जनवरी को समाप्त हो गई। 5 साल में पहली बार इस साल रिकाॅर्ड 42.76 क्विंटल धान की खरीदी हुई है। 1 लाख 11 हजार 519 किसान पंजीकृत थे। जिनमें से 1 लाख 9 हजार 174 किसानों ने धान बेचा है। टोकन जारी लेने के बाद भी 2345 किसान धान बेचने नहीं अाए। खरीदी के अंतिम दिन सिर्फ 375 किसानों ने धान बेचा। इस बार किसानों के बारदाने के सहारे ही धान की खरीदी पूरी की गई है। आखिरी दिन मात्र 9 हजार 317 क्विंटल धान की खरीदी हुई। लक्ष्य से 1.23 लाख क्विंटल कम धान की खरीदी हुई। 5 साल का रिकॉर्ड देखे तो जिले में पहली बार 42.76 लाख क्विंटल धान खरीदा गया है। केंद्रों से अब तक केवल 18 लाख क्विंटल धान का ही उठाव हो पाया है। करीब 24.76 क्विंटल धान जाम है। खरीदे गए करोड़ों रुपए के धान को सुरक्षित रखने के व्यापक इंतजाम नहीं किए गए हैं। यदि बारिश होती है तो धान भीगेंगे। बर्बादी से नुकसान होगा।

उठाव जल्द नहीं हुआ तो समितियों को नुकसान
जिले में खरीदी 2 महीने चली। धान खरीदी 1 दिसंबर से 29 जनवरी तक 2 महीने चली। अंतिम दिन समितियों में काफी संख्या में किसान धान बेचने अाए। खरीदी के बाद 2 माह से धान केंद्रों में डंप है। इसके चलते सूखत का आना तय है। प्रत्येक बोरे में 200 से 300 ग्राम की भी कमी आएगी तो तौल में वजन कम बताएगा। ऐसे में समितियों को नुकसान हाेगा। समितियों को कमीशन और बोनस नहीं मिल पाएगा। इसलिए समिति प्रबंधक उठाव जल्द कराने की मांग कर रहे हैं। बताया कि जब तक उठाव नहीं होगा, दिन-रात ड्यूटी करनी होगी। पिछले साल 18 फरवरी तक धान खरीदी हुई थी।

धान बेचकर चुकाया 169 करोड़ का कर्ज
जिले के 1 लाख 9 हजार 174 किसानों ने धान बेचा है। इन किसानों ने 802 करोड़ 76 लाख 42 हजार 990 का धान बेचा है। 633 करोड़ 62 लाख 32 हजार का भुगतान हो चुका है। 169.14 करोड़ का कर्ज किसानों ने चुकाया है।

13 केंद्रों में कई किसान नहीं बेच पाए धान
जिले के 13 केंद्र ऐसे हैं, जहां 50 या इससे ज्यादा पंजीकृत किसान धान बेचने से वंचित हुए। इनमें बेलरगांव, गट्टासिल्ली, माकरदोना, आमदी, खरेंगा, घठुला, डोंगरडुला, सोरम, नगरी, सेमरा, सलौनी, सिंगपुर शामिल हैं।

109174 किसान धान बेचने पहुंचे
धान खरीदी के लिए जिले के 111519 किसानों ने पंजीयन करवाया था। इनमें से 109174 किसानों ने अपनी उपज बेची। अब भी 2345 किसान ऐसे हैं, जिन्होंने टोकन कटाने के बाद भी धान नहीं बेचा है। ऐसे किसानों के लिए सरकार द्वारा धान बेचने की तारीख बढ़ाई जाएगी या नहीं इस पर संशय है। अब प्रशासन इन किसानों की जानकारी जुटाएगा।

सरकार से तारीख बढ़ाने का निर्देश नहीं आया
जिला नोडल प्रह्लादपुरी गोस्वामी ने बताया कि केद्रों से देर-रात तक धान खरीदी अपडेट हुई है। 5 साल में पहली बार रिकॉर्ड 42.75 लाख क्विंटल धान खरीदी हुई। जिन किसानों ने धान नहीं बेचा है, उनके लिए तारीख बढ़ाने का निर्देश नहीं आया है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आपका संतुलित तथा सकारात्मक व्यवहार आपको किसी भी शुभ-अशुभ स्थिति में उचित सामंजस्य बनाकर रखने में मदद करेगा। स्थान परिवर्तन संबंधी योजनाओं को मूर्तरूप देने के लिए समय अनुकूल है। नेगेटिव - इस...

    और पढ़ें