उठाई आवाज / लक्ष्य 27 हजार बोरे का, खरीदी अब तक सिर्फ 13 हजार, मौसम खराब कहकर खरीदी भी बंद

Target of 27 thousand sacks, bought only 13 thousand so far, saying the weather is bad, the purchase is also closed
X
Target of 27 thousand sacks, bought only 13 thousand so far, saying the weather is bad, the purchase is also closed

  • ग्रामीण बोले- सरकार पत्ते खराब बताकर खरीदी बंद की, जानबूझकर लक्ष्य पूरा नहीं कर रही

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

धमतरी. वन विभाग सलाना तेंदूपत्ता तोड़ाई का लक्ष्य पूरा नहीं कर पा रहा। वर्ष 2018-19 में 4 हजार कम मानक बोरा की खरीदी की गई। इस साल भी लक्ष्य पूरा हो पाना मुश्किल है। गर्मी के दिनों में हुई बारिश से इस साल भी लक्ष्य पूरा नहीं हो पाएगा। मौसम की खराबी के कारण कुछ समितियों में तेंदूपत्ता की खरीदी बंद कर दी है। खरीदी बंद होने से ग्रामीणों में नाराजगी है।
वर्ष 2019-20 में तेंदूपत्ता तोड़ाई का लक्ष्य 27 हजार 300 बोरा रखा गया है। अब तक सिर्फ 13 हजार 582 बोरा की खरीदी की गई। मौसम खराब होने से मुड़पार, शकरवारा, बरारी क्षेत्र में खरीदी बंद हो गई। मुड़पार से 50, शकरवारा से 50 और बरारी से 100 बोरा की खरीदी होनी थी, जबकि इन समितियों में सिर्फ 52 बोरा की खरीदी हो पाई। 
ग्रामीण अब भी तेंदूपत्ता संग्रहित कर घरों में रखे हुए हैं। ग्रामीण बुधऊराम कोर्राम, बसंत मरकाम आदि ने कहा कि पत्ते खराब होने का बहाना बनाकर खरीदी बंद कर दी है। एक हजार मानक बोरा में 4 हजार रुपए की बढ़ोतरी से तेंदूपत्ता संग्रहण करने वाले मजदूरों की संख्या 
बढ़ गई, लेकिन लक्ष्य के अनुरूप खरीदी नहीं करने से ग्रामीणों में सरकार के प्रति नाराजगी है। लोगों ने तेंदूपत्ता की तोड़ाई लक्ष्य अनुसार की, लेकिन खरीदी नहीं होने से अब रखने के लिए जगह नहीं है।
5 साल में दो बार घटाया लक्ष्य
सरकार ने 5 सालों में दो बार तेंदूपत्ता खरीदी का लक्ष्य घटाया है। 2016-17 तक 32 हजार 900 मानक बोरा खरीदी का लक्ष्य रखा था, लेकिन खरीदी सिर्फ 21 हजार बोरा की गई। 2017-18 में लक्ष्य घटाकर 31 हजार 600 मानक बोरा किया गया, इस दौरान खरीदी 26 हजार 273 मानक बोरा की खरीदी की गई। नई सरकार बनने के बाद 2018-19 में लक्ष्य घटाकर 27 हजार किया गया, जिसमें प्रति बोरा 4 हजार रुपए बढ़ा दिए।
पत्ते सही, फिर भी नहीं खरीद रहे: जिपं सदस्य
जिला पंचायत सदस्य खूबलाल ध्रुव ने कहा कि राज्य सरकार ने हरा सोना खरीदने का दाम बढ़ाया। दाम बढ़ने से मजदूरों की संख्या बढ़ी, लेकिन खरीदी आधी-अधूरी की जा रही। राज्य में 13 लाख परिवारों को रोजगार तो मिला पर लक्ष्य अनुसार कम खरीदी होने से लोगों को पारिश्रमिक नहीं मिल पा रहा है। राज्य में 650 करोड़ रुपए पारिश्रमिक का भुगतान सरकार करेगी। धमतरी जिले में लक्ष्य अनुसार खरीदी नहीं की जा रही। मौसम के कारण पत्ता खराब होना कारण बताया जा रहा, जबकि पत्ते सभी सही है। बरारी, शकरवारा समेत आसपास के गांवों में खरीदी बंद हो गई।
खरीदी बंद नहीं हुई: एसडीओ
तेंदूपत्ता पत्ता प्रभारी व एसडीओ एफआर कोसरिया ने कहा कि जिले में तेंदूपत्ता खरीदी की जा रही है। अब तक 13 हजार मानक बोरा की खरीदी की गई। बरारी क्षेत्र में बारिश के कारण तेंदूपत्ता खराब हो गया, जिस कारण वहां खरीदी नहीं हो रही है। खरीदी बंद नहीं हुई है, सही पत्ते लाने पर खरीदी की जाएगी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना