पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

परेशानी:धान में तनाछेदक का प्रकाेप, कीटनाशक के छिड़काव से भी फसल का बचाव नहीं हाे रहा

कुरुद7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

धान की फसल में कीट प्रकोप बढ़ रहा है। कीटनाशक छिड़काव के बावजूद बचाव नहीं हाे पा रहा है। किसान परेशान हैं। अभी धान की बालियां निकलने का समय है। साथ ही देरी से आने वाली फसल में गभाेट या बालियां बनने का समय चल रहा है। ऐसी स्थिति में धान में कीट के प्रकाेप से बड़ा नुकसान हाे सकता है। कीट से फसल काे बचाना जरूरी है। कुरूद के किसान रामकुमार सिन्हा एवं ग्राम कुहकुहा के डिगेश निर्मलकर ने बताया कि अभी मौसम में उतार-चढ़ाव के कारण धान की फसलों पर तनाछेदक का प्रकोप धान में है। वही सब्जी में सुंडी और वायरस का प्रकाेप देखा जा रहा है। उन्होंने कहा कि किसान को सलाह देने वाले कृषि सलाहकार की आवश्यकता है। अफसर अपनी औपचारिकता तक ही सीमित हैं। मात्र रिकॉर्ड दुरुस्त करते रहते हैं। जमीनी स्तर पर अफसर काम नहीं कर रहे हैं। कीट प्रकाेप राेकने की सलाह तक नहीं मिल पा रही है। कृषकों ने बताया कि कृषि करने के तरीके में बदलाव आया है। एक तरफ रासायनिक खाद है ताे दूसरी ओर जैविक खाद की तरफदारी की जा रही है। ऐसी परिस्थिति में किसान अपने हित में निर्णय करने में असमर्थ हो जाते हैं। कृषि सलाहकार की आवश्यकता पडती है लेकिन कोई नहीं मिलता है। कृषक लोकेश दीवान ने बताया कि दूसरे की जमीन लेकर धान लगाई है। तनाछेदक कीट के प्रकोप से चलते अब तक एक एकड़ में 18 हजार रुपए का दवाई का छिड़काव कर चुका हूं। इसके बाद भी कीट पर नियंत्रण नहीं हुअा है। अभी धान की बाली निकलने लगी है। धान की बोआई से कटाई तक लागत का हिसाब करें तो कृषि कार्य घाटे का सौदा हो गया है। कृषक चेतन सोनवानी ने बताया कि धान में लग रहे राेगाें पर नियंत्रण नहीं हाेने से होने से खेती कार्य की लागत बढ़ते ही जा रही है।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में रहेगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा। पिछले कुछ समय से चल रही किसी समस्या का समाधान मिलने से राहत मिलेगी। कोई बड़ा निवेश करने के लिए समय उत्तम है। नेगेटिव- परंतु दोपहर बाद परिस...

और पढ़ें