पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

फिर वही दिन:दोबारा थमने लगी बसों की रफ्तार, डीजल का खर्च नहीं निकल रहा, 3 दिन में 10 परमिट जमा हो चुके

धमतरी4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • दुर्ग में लॉकडाउन से बसें गुंडरदेही तक जा रहीं, कई बसों में यात्रियों से वसूल रहे मनमाना किराया
  • शहर से हर दिन गुजरती हैं करीब ढाई सौ बस, स्टैंड में 2 घंटे खड़े होने पर मिल रहीं 5 से 8 सवारियां

लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण और इसके नियंत्रण में असफल हाेने से बस व्यवसाय एक बार फिर से ठप हाेने लगा है। अलग-अलग जिलाें में कर्फ्यू, लाॅकडाउन व अन्य इसी तरह के उपाय किए जाने से लाेगाें ने अब घर से निकलना बंद कर दिया है।

जिले में यात्री नहीं मिल रहे। बसाें का डीजल खर्च नहीं निकल रहा है। इस कारणा बस संचालक परमिट जमा करने लगे हैं। तीन दिन में 10 बसाें के परमिट आरटीओ में जमा हाे गए हैं। इसके अलावा भी यहां आवेदन आए हैं। जानकारी के मुताबिक बस स्टैंड पर 2 घंटे तक खड़ी होने पर भी मिनी बसों में 5 से 8 सवारी ही मिल रहीं। 75 किमी दूरी तय कर धमतरी से रायपुर सवारी छोड़ने में एक बस के पीछे करीब 4 हजार खर्च हो रहे हैं, लेकिन मालिकों को बदले में 1000 से 1200 रुपए ही मिल रहे है। एक बस पर करीब 2 हजार का नुकसान हो रहा है। लगातार नुकसान उठाने के बाद अब मालिकों ने 10 बसें खड़ी कर परमिट आरटीओ में जमा करा दिया है।

डीजल और कर्मचारियों के खर्च की चिंता
जिला बस ऑनर्स यूनियन के अध्यक्ष महावीर प्रसाद गुप्ता ने बताया कुछ माह संक्रमण कम था, तो यात्री मिले। अब संक्रमण फिर से बढ़ रहा है। यात्री नहीं मिलने से 2020 जैसी स्थिति है। डीजल व कर्मचारी का खर्च नहीं निकला पा रहे है। महीनेभर यहीं स्थिति रही तो 50 से अधिक बसें फिर बंद होगी।

यात्री बाेले - मनमर्जी का किराया वसूल रहे
कई संचालक घाटे में चलने की बात कहकर किराया भी डेढ़ से दाे गुना तक वसूल रहे हैं। बसाें में नई व पुरानी काेई किराया सूची नहीं लगी है। यात्रियों का कहना है कि टिकट पर किराया लिखने की बात करते हैं, ताे कंडक्टर बहस करते हैं। बस से उतरने की धमकी देते हैं। अफसर ध्यान नहीं दे रहे।

किराया बढ़ा तो 10 से 40 रुपए ज्यादा देने होंगे
यातायात महासंघ के मुताबिक डीजल की कीमत को देखते हुए किराया प्रथम 5 किमी का 10 रुपए और उसके बाद प्रति किमी 1 रुपए 5 पैसा बढ़ाने की मांग की है। यह कुल किराया का 3 फीसदी ज्यादा है। हालांकि सरकार ने मांगे नहीं मानी है। किराया बढ़ता है तो 10 से 30 रुपए तक ज्यादा देने होंगे।

धमतरी से इन रूटों पर चलती हैं ढाई सौ बसें

  • एनएच पर- रायपुर से धमतरी, कांकेर, जगदलपुर, दंतेवाड़ा, बीजापुर, विजयवाड़ा।
  • स्टेट हाईवे पर- धमतरी से बालोद, राजनांदगांव, दुर्ग-भिलाई, नगरी, सिहावा, बेलर, मैनपुर।
  • ड्राइवर, कंडक्टर, स्टाफ व सभी यात्री मास्क पहनें।
  • दिन में दो बार बसों को सैनिटाइज करना होगा।
  • बस में धूम्रपान, गुटखा, तंबाकू व पान खाने, थूकने पर रोक।

पहले बंद हुई फिर चालू अब फिर पुरानी स्थिति

  • 22 मार्च 2020 से बसें बंद हो गई। ढाई सौ बसें खड़ी हाे गईं।
  • 25 जून 2020 को सरकार ने बस चालू कराने का आदेश दिया, लेकिन किराया बढ़ाने की मांग पर बस मालिकों ने बस नहीं चलाईं।
  • 5 जुलाई 2020 से बसें चलने लगी। शुरुआत में ढाई सौ मिनी बस में से केवल 25 प्रतिशत यानी 40 से 50 बस ही चलनी शुरू हुई।
  • दिवाली के बाद से सभी बसें सड़क पर चल रही थी। करीब 4 महीने बसें चली। अब दोबारा बसें बंद हो रही है।
खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज का दिन मित्रों तथा परिवार के साथ मौज मस्ती में व्यतीत होगा। साथ ही लाभदायक संपर्क भी स्थापित होंगे। घर के नवीनीकरण संबंधी योजनाएं भी बनेंगी। आप पूरे मनोयोग द्वारा घर के सभी सदस्यों की जरूर...

    और पढ़ें