पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

मनमानी:क्वारेंटाइन में रखे गए थे रेड जोन से आए 68 लोग, 16 रसूखदारों को घर भेज दिया

जगदलपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इस तरह गेट पर ताला लगाकर लोगों को अंदर कर दिया बंद तो लोगों ने की आपत्ति।
  • कुम्हरावंड के क्वारेंटाइन सेंटर में मिली लापरवाही, अफसरों ने सुधरवाया

कुम्हरावंड के कृषि महाविद्यालय के ब्वॉयज हॉस्टल में रेड जोन से आए लोगों के लिए बनाए गए क्वारेंटाइन सेंटर में रह रहे लोगों पर अव्यवस्था भारी पड़ रही है। यहां 68 लोगों को क्वारेंटाइन पर रखा गया था। जिसमें से 16 रसूखदारों को बीते 3 से 4 दिनों में घर भेज दिया गया है, जबकि भवन को 11 दिनों पहले ही क्वारेंटाइन सेंटर बनाया गया है और क्वारेंटाइन पीरियड 14 दिनों का तय किया गया है। बाकी आम लोगों को यहीं रहने कहा गया है। इस पर यहां बंद लोगों ने कहा कि उन्हें अपराधियों की तरह यहां बंद कर क्यों रखा गया है। इसके अलावा सफाई से लेकर गुणवत्ताहीन खाना भी लोगों को दिया जा रहा है, वहीं पहले घरों से खाना मंगाने की अनुमति को भी रद्द कर दिया गया। 
भास्कर की टीम जब पहुंची तो खाने और सफाई व्यवस्था के साथ ही गेट पर तालेबंदी फिर स करदी गई। इसके साथ ही लोगों को पैकेटों में खाना और बच्चों के लिए दूध लाने की अनुमति भी दे दी। इधर क्वारेंटाइन पीरियड से पहले ही 16 लोगों को छोड़ने के मुद्दे पर सेंटर प्रभारी ने बताया कि अतिरिक्त कलेक्टर अरविंद एक्का ने इसकी अनुमति दी थी। 
अतिरिक्त कलेक्टर ने ठीक करवाई व्यवस्था
रेड जोन क्वारेंटाइन सेंटर प्रभारी डॉ. टीएस नाग ने बताया कि अतिरिक्त कलेक्टर के कहने पर ही सारी व्यवस्थाएं बंद की गई थीं। बाद में शाम को इस पर चर्चा की गई तो उन्होंने शर्तों के साथ व्यवस्थाओं को बहाल करने कहा। मालूम हो कि इस मसले पर भास्कर ने सेंटर प्रभारी से जानकारी ली थी, जिसके बाद उन्होंने इसकी जानकारी अतिरिक्त कलेक्टर को दी, जिस पर उन्होंने व्यवस्थाओं को बहाल करने के निर्देश दिए हैं। 
अतिरिक्त कलेक्टर के कहने पर गेट पर जड़ दिया ताला, सफाई बदहाल, खाना भी खराब
भास्कर की टीम जब कुम्हारावंड स्थित क्वारेंटाइन सेंटर पहुंची तो देखा कि सामने के गेट पर ताला जड़ दिया गया है। स्टाफ से पूछने पर उन्होंने बताया कि अतिरिक्त कलेक्टर एक्का ने ऐसा करने कहा है। इसके बाद लोगों ने बताया कि एक फ्लोर पर दो ही बाथरूम हैं, जिसका उपयोग इनमें रहने वाले तकरीबन 15 से 20 लोग करते हैं। इन हालातों में संक्रमण फैलने का सबसे ज्यादा खतरा होता है। सफाई व्यवस्था बदहाल होने के साथ ही खाने की गुणवत्ता पर भी लोगों ने सवाल उठाए। उन्होंने बताया कि अधपका चावल और पानी जैसी दाल खाने को मिल रही है। ऐसे में घर से खाना लाने की अनुमति नहीं मिली तो वे यहां का खाना नहीं खाएंगे।
 घरों से आने वाला खाना भी बंद कराया
यहां रह रहे लोगों ने बताया कि घर से खाना लाने के लिए जिन्हें कहा गया है, उन्हें ये भी बताया गया है कि टिफिन में वे खाना लेकर न आएं, क्योंकि इससे संक्रमण का खतरा है। ऐसे में पैकेटों में खाना लाने कहा गया, इसे भी बंद करवा दिया गया है। इसके साथ ही छोटे बच्चों को भी यहां क्वारेंटाइन पर रखा गया है, जिनके लिए दूध की व्यवस्था भी बंद करवा दी गई है। इनमें कई ऐसे लोग भी हैं, जो डायबिटीज के मरीज हैं। इन मरीजों को चावल खाने की मनाही होती है, ऐसे मरीजों को भी खाने को चावल ही दिया जा रहा है।
किन कारणों से भेजा गया जानकारी नहीं
अतिरिक्त कलेक्टर अरविंद एक्का ने कहा कि उन 16 लोगों को किन कारणों से घर भेजा गया है, इसकी जानकारी नहीं है, लेकिन कुछ देखकर ही उन्हें भेजा गया होगा। जब उनसे ये पूछा गया कि बाकी लोग भी होम क्वारेंटाइन पर भेजने की मांग कर रहे हैं तो उन्होंने कहा कि लोग कहते रहेंगे, लेकिन हम ये प्रयास कर रहे हैं कि लोग किसी भी तरह से सुरक्षित रहें।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज घर से संबंधित कार्यों को संपन्न करने में व्यस्तता बनी रहेगी। किसी विशेष व्यक्ति का सानिध्य प्राप्त हुआ। जिससे आपकी विचारधारा में महत्वपूर्ण परिवर्तन होगा। भाइयों के साथ चला आ रहा संपत्ति य...

और पढ़ें