पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

छठ महापर्व:कोरोना खत्म होने की कामना लेकर सूर्य को दिया अर्घ्य, 36 घंटे का निर्जला उपवास पूरा

जगदलपुर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • शहर के गंगामुंडा तालाब और दलपतसागर में सुबह 3 बजे से पहुंचने लगी थीं व्रती महिलाएं

उदित होते सूर्य को अर्घ्य अर्पित करने के साथ ही छठ व्रतियों द्वारा किया जा रहा 36 घंटे का निर्जला उपवास पूरा हो गया। इसके साथ ही छठ महापर्व के सभी विधान संपन्न कर लिए गए। शहर के गंगामुंडा और दलपत सागर के घाट पर तड़के 3 बजे से ही श्रद्धालुओं का पहुंचना शुरू हो गया था। छठव्रती भी दउरा (बांस के टोकने) में प्रसाद के साथ घाट पर पहुंचे। लगभग 2 घंटे तक कमर तक पानी में खड़े होकर सूर्य के उदित होने की प्रतीक्षा करते रहे। सुबह सवा 6 बजे सूर्योदय होते ही भगवान भास्कर को अर्घ्य अर्पित किया गया। अपनी मनोकामना पूरी होने पर कई श्रद्धालु दंडवत करते हुए छठ के घाट पर पहुंचे थे। सूर्योदय से पहले ही रुपए में फल और पूजन की सामग्री को सजा कर छठी मैया की पूजा अर्चना की गई। इसके अलावा बांस की टोकरी में ठेकुआ, चावल के लड्डू और कुछ फल लेकर लोटे में जल एवं दूध भरकर इसी से सूर्यदेव को ऊषा अर्घ्य दिया गया। इसके साथ ही प्रसाद व पूजन सामग्री के साथ पानी में खड़े छठ व्रती के हाथों में रखें सूप के सामने जल और दूध गिराते हुए सूर्यदेव को अर्घ्य अर्पित किया गया। मान्यता है कि छठ महापर्व के अंतिम दिन सूर्य की पत्नी उषा को अर्घ्य दिया जाता है। उगते सूर्य को अर्घ्य देकर लोग अपने परिवार सहित अन्य सभी के स्वास्थ्य और सुखी जीवन की कामना की। इसके बाद वहां उपस्थित लोगों के बीच छठ का प्रसाद बांटा गया। कार्तिक शुक्ल सप्तमी शनिवार को उदित होते सूर्य को अर्घ्य अर्पित करने के साथ ही 4 दिनों से चले आ रहे छठ महापर्व का समापन हो गया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- कुछ महत्वपूर्ण नए संपर्क स्थापित होंगे जो कि बहुत ही लाभदायक रहेंगे। अपने भविष्य संबंधी योजनाओं को मूर्तरूप देने का उचित समय है। कोई शुभ कार्य भी संपन्न होगा। इस समय आपको अपनी काबिलियत प्रदर्...

और पढ़ें