चंबल के डाकू ने पहले गन दिखाई फिर रुपए दिए:16 राज्यों की पदयात्रा कर जगदलपुर पहुंचे युवक की रोचक आपबीती, प्लास्टिक के खिलाफ जागरूकता का अभियान

जगदलपुर7 महीने पहले

प्लास्टिक के नुकसान के प्रति देशवासियों को जागरूकता का संदेश देने नागपुर का एक युवा रोहन साल 2020 से देश की पदयात्रा पर निकला हुआ है। 16 राज्यों की यात्रा पूरी कर अब छतीसगढ़ पहुंचा है। बीजापुर पहुंचने के बाद युवक का कांग्रेसियों समेत शहर वासियों ने स्वागत किया। रोहन ने अपनी यात्रा के कुछ रोचक किस्से साझा किए उसने बताया कि कैसे चंबल में एक डकैत से सामना हुआ और कैसे फिर उसी ने मोटरसाइकिल से उसे घाटी पार कराई।

युवक रोहन अग्रवाल नागपुर के कामठी का रहने वाला है। रोहन ने बताया कि 25 अगस्त 2020 को अपनी यात्रा शुरू की थी। राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश, गोवा, पांडुचेरी, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश समेत 16 राज्यों में पद यात्रा पूरी कर छत्तीसगढ़ में प्रवेश किया है। यह युवक के पदयात्रा का 17वां राज्य है। डेढ़ साल में उसने लगभग 10 हजार किमी पैदल और 40 हजार किलोमीटर का सफर लिफ्ट मांगकर तय किया है। इस यात्रा में कई जगह लोगों ने मदद की तो कई जगह सड़क के किनारे या फिर जंगल में पेड़ों के नीचे रात गुजारी है। भूख लगती तो पानी पीकर गुजरा कर लेता था। लेकिन फिर भी हिम्मत नहीं हारी। क्योंकि देश को प्लास्टिक से होने वाले नुकसान के बारे में जागरूक करने का जुनून सवार था।

16 राज्यों की पदयात्रा पूरी कर युवक अब छत्तीसगढ़ पहुंचा है।
16 राज्यों की पदयात्रा पूरी कर युवक अब छत्तीसगढ़ पहुंचा है।

चंबल घाटी में डकैत से सामना, उसने एक हजार रुपए दिए
रोहन ने बताया कि चंबल घाटी में जब वह पैदल यात्रा कर रहा था तो उसका सामना एक डकैत से हुआ। वह गन दिखाकर कहता है कि बैग में जो भी सामान है उसे दे दो। रोहन ने कहा कि मैं बहुत डर गया था। डकैत को समझा रहा था कि बैग में कुछ खास समान नहीं है। बस कपड़े और जरूरत के थोड़े बहुत सामान हैं। डकैत एक ही बातों पर अड़ा रहा कि सामान दे दो वरना जान से मार दूंगा। फिर मैंने कहा कि मुझे 2 मिनट अपनी बात रखने का मौका दो। जब मैंने उसे अपने लक्ष्य के बारे में बताया तो वह खुश हो गया और खुश होकर उसने मुझे बदले में एक हजार रुपए दिए। खाना भी खिलाया। फिर अपनी बाइक में बिठाकर चंबल घाटी को पार कराया।

जहां रुकता है वहां प्लास्टिक के नुकसान पर देता है संदेश

रोहन को अपनी इस यात्रा के दौरान रास्तों में कई कठिनाई भी आई। लेकिन उसने उन कठिनाइयों का डट कर सामना किया। जिन शहरों में रुकता वहां के सार्वजनिक जगहों पर खड़ा होकर लोगों को प्लास्टिक के नुकसान के बारे में बताता है। लोगों को संदेश देता है कि प्लास्टिक का उपयोग कम करें तो देश में स्वच्छता भी बरकरार रहेगी। रोहन ने बताया कि देश को शांति और प्यार का संदेश भी देता हूं। लोगों को बताता हूं कि भारत देश विविधता में एकता वाला है। लेकिन यहां धर्म, जाति, समुदाय के नाम पर लड़ाई चल रही है। मैं लोगों को समझाता हूं कि विविधता में कितनी खूबसूरती है।

युवा का बीजापुर में कांग्रेसियों ने स्वागत किया।
युवा का बीजापुर में कांग्रेसियों ने स्वागत किया।

भारत भ्रमण के बाद करेगा विदेश यात्रा
रोहन ने कहा कि छत्तीसगढ़ के बाद ओडिशा, बिहार, झारखंड, सिक्किम समेत बचे हुए राज्यों की यात्रा पूरी करनी है। वहां के लोगों को भी जागरूक करना है। पूरे भारत देश का भ्रमण करने के बाद विदेश यात्रा पर निकलने का लक्ष्य रखा है। रोहन ने बताया कि बांग्लादेश, थाईलैंड म्यांमार, वियतनाम, चाीन, हॉन्गकॉन्ग समेत अन्य देशों का भ्रमण करूंगा और वहां के लोगों को भी जागरूक करूंगा।