बारिश ने खोल दी नगर निगम के कार्यों की पोल:नेता प्रतिपक्ष संजय पांडेय ने कहा- जन हित की जगह ठेकेदार के हित में काम कर रहा निगम

जगदलपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कुछ इस तरह लोगों को हो रही समस्या। - Dainik Bhaskar
कुछ इस तरह लोगों को हो रही समस्या।

बस्तर में हो रही बारिश ने जगदलपुर नगर निगम के कार्यों की पोल खोल दी है। शहर की सड़कों पर पानी भरा हुआ है तो नालियां भी जाम है। निर्माणाधीन सड़कें कीचड़ में तब्दील हो गई है। जिससे लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। नगर निगम के नेता प्रतिपक्ष संजय पांडेय ने शहर की इन समस्याओं को लेकर निगम की महापौर को जमकर घेरा है। संजय पांडेय का आरोप है कि निगम जन हित में नहीं बल्कि अपने ठेकेदारों के हित में काम कर रही हैं। महापौर कुर्सी से उठ कर वार्ड की समस्याओं को जानने शहर में नहीं निकल रही है।

संजय पांडेय ने कहा कि भ्रष्टाचार और कमीशनखोरी का धंधा खुलेआम चल रहा है। जिस निगम को जनता के हित में काम करना चाहिए वह ठेकेदारों के हितैषी बने हुए हैं और जनता को ठेंगा दिखा रहे हैं। भारी अनियमितता का खेल खुलेआम निगम में देखने को मिल रहा है। जनता की गुहार सुनने वाला कोई नहीं है। संजय पांडेय ने महापौर को पत्र लिखकर अमृत योजना के अंतर्गत वॉटर सप्लाई स्कीम में हो रही अनियमितताओं पर तत्काल रोक लगाने की मांग की है।

शहर की सड़कें कीचड़ में तब्दील हो गई हैं।
शहर की सड़कें कीचड़ में तब्दील हो गई हैं।

पत्र के माध्यम से महापौर को अवगत कराते हुए उन्होंने कहा है कि केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी योजना अमृत मिशन में बेहद घटिया तथा निम्न स्तरीय कार्य किया जा रहा है। 24 घंटे पानी पाइप लाइन बिछाने के नाम पर वार्डों में बिना किसी प्लानिंग के रोड को काटकर जनता के साथ गंदा मजाक किया जा रहा है। शीघ्र काम पूर्ण होने का आश्वासन देकर वार्ड की गलियों में गड्ढे तो कर दिए गए लेकिन साइट में प्लंबर भी नहीं रखा गया है, जिसके कारण कई दिनों से लोगों को पानी भी नहीं मिल पा रहा है।

सड़कों में बड़े-बड़े गड्ढे हो गए हैं। जिनमें पानी भरा हुआ है।
सड़कों में बड़े-बड़े गड्ढे हो गए हैं। जिनमें पानी भरा हुआ है।

पाइप टूटने से दूषित जल की आपूर्ति हो रही है। मच्छर पनप रहे हैं, जो सीधे तौर पर कई गंभीर बीमारियों को न्योता दे रहे हैं। लेकिन निगम प्रशासन गहरी नींद में सोया हुआ है। शहर की जनता त्रस्त है। नेता प्रतिपक्ष ने आरोप लगाते हुए कहा है कि ठेकेदार के पास अलग-अलग साइज की पाइप भी नहीं हैं। पाइप लाइन बिछाने के लिए सही तरीके से एस्टीमेट भी नहीं लिया गया है। जिसके कारण किसी भी वार्ड में कार्य सही तरीके से नहीं हो रहा है। उन्होंने कहा कि बिना योजना बनाए काम किया जा रहा है। जिससे जनता की परेशानी और बढ़ गई है। वहीं इस मामले में निगम महापौर शफिरा साहू से भी पक्ष लेने के लिए उन्हें कॉल किया गया लेकिन उन्होंने कॉल रिसीव नहीं किया।

खबरें और भी हैं...