पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ग्लोबल हैंड वॉशिंग डे:बेहतर हाथ धुलाई से 58% तक कम हो सकती है दस्त की बीमारी

जगदलपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना काल में हाथ धोने की अहमियत बढ़ गई: सीआर मैत्री

लोगों को हाथ धोने के प्रति जागरूक करने के लिये ग्लोबल हैंड वॉशिंग डे की शुरुआत 2008 में की गई थी। हर साल यह दिवस 15 अक्तूबर को मनाया जाता है। ग्लोबल हैंड-वाशिंग डे 2020 की थीम ‘हैंड हाइजीन फॉर ऑल’ है इसका उद्देश्य साबुन से हाथ धोने की आदतों को बढ़ावा देना है, साथ ही लोगों को इसकी अहमियत बताते हुए हाथ धोने के फायदों के प्रति जागरूक करना है। अभियान की शुरुआत बाल मृत्यु दर, सांस से संबंधित बीमारियां और डायरिया पर नियंत्रण करने के लिए की गई थी। जिला टीकाकरण अधिकारी सीआर मैत्री ने कहा कि कोरोना काल में हाथ धोने की अहमियत और ज्यादा बढ़ गई है। प्रायः बड़ों की तुलना में बच्चे अपने हाथों की सफाई सही तरीके से नहीं कर पाते इस कारण उनके हाथों में कीटाणु ज्यादा पाए जाते हैं। ऐसे में हाथों का स्वच्छ होना, हमें स्वस्थ बनाए रखने के लिये जरूरी है। किसी संक्रामक बीमारी से पीड़ित व्यक्ति से हाथ मिलाने के बाद कोई भी वस्तु न छुएं और न बिना हाथ धोए खाएं। खाने से पहले, खाने के बाद व शौच के बाद अच्छे से हाथ जरूर धोएं। इसके साथ ही हाथ पोंछने के लिए साफ-सुथरी जगह पर सुखाए गए तौलिए का ही प्रयोग करें।

आंगनबाड़ी व स्कूली बच्चों को प्रोत्साहित किया जा रहा है
स्वास्थ्य की दृष्टि से हाथों की सफाई रखना बेहद जरूरी हैं। क्योंकि शरीर में फैलने वाले अधिकतर संक्रमण हाथों से शरीर में पहुंचते है। नियमित हाथ धोने से दस्त और निमोनिया सहित कई बीमारियों का खतरा कम हो जाता है। जीवाणु और वायरस जैसे रोगाणु सूक्ष्मदर्शी होते हैं जिनको नग्न आंखों से नहीं देखा जा सकता है । सूक्ष्मजीव, सेल फोन, टूथब्रश जैसी वस्तुओं सहित हर जगह पाए जा सकते हैं, और जब इन्हें स्पर्श किया जाता है तो वह आसानी से हमारी हाथों में स्थानांतरित हो जाते हैं । लेकिन हाथ धोने की नियमित आदत सूक्ष्मजीवों को नष्ट कर फैलने से रोक सकती है। इसको देखते हुए आंगनबाड़ी और स्कूली बच्चों को हाथ धोने के बाद खाना खाने के लिए समझाइश देने के साथ ही प्रोत्साहित किया जाता है । मैत्री ने कहा कि बस्तर जिले में यह काम करीब हर आंगनबाड़ी केंद्र और स्कूल में बिना किसी गतिरोध के हो रहा है।

कम से कम 20 सेकेंड तक धोएं हाथ
रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) के अनुसार लोगों को हाथ धोने के बारे में सिखाने से उन्हें और उनके अपनों को स्वस्थ रहने में मदद मिलती है। जिला टीकाकरण अधिकारी ने कहा कि अच्छे तरीके से हाथ धोने से लोगों में दस्त की बीमारी को 58 फीसदी तक कम की जा सकती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के दिशा निर्देशों के मुताबिक करीब 20 सेकेंड तक हाथों को अच्छे से धोना चाहिये। सबसे पहले अपने हाथों को गीला करें। गीले हाथों में साबुन या हैंडवॉश लगाएं। हाथों की सफाई के लिए उसे आपस मे अच्छे से मलें, हाथ के किसी भी हिस्से को छोड़े नहीं। अंगुलियों के बीच में भी सफाई करें। नाखूनों में जमी गंदगी और मैल का भी इस दौरान सफाया करें। फिर हाथ को पानी से धो लें और उसके बाद तौलिए से हाथ पोछें।

खबरें और भी हैं...