नगर निगम में धक्का-मुक्की मामले ने पकड़ा तूल:माथे में काली पट्टी बांध कर सड़क पर उतरे भाजपाई, कहा- भ्रष्टाचार उजागर करें तो गुंडागर्दी पर उतर जाते हैं कांग्रेसी

जगदलपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जगदलपुर नगर निगम के खिलाफ भाजपा ने प्रदर्शन किया। - Dainik Bhaskar
जगदलपुर नगर निगम के खिलाफ भाजपा ने प्रदर्शन किया।

जगदलपुर नगर निगम में सोमवार को भाजपा और कांग्रेस पार्षदों के बीच हुई धक्का-मुक्की के मामले ने अब तुल पकड़ लिया है। मंगलवार को BJP के कार्यकर्ताओं ने नगर निगम की महापौर व कांग्रेसी पार्षदों के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। भाजपा के कार्यकर्ताओं ने कांग्रेसी पार्षदों पर गुंडागर्दी का आरोप लगाते हुए सड़क पर उतरे और विशाल रैली निकाल कर प्रदर्शन किया है। कई कार्यकर्ताओं ने माथे में काली पट्टी बांध कर विरोध जताया है। भाजपाइयों का कहना है कि, यदि भ्रष्टाचार की बात करें तो कांग्रेसी मारने पर उतारू हो जाते हैं।

नगर निगम के नेता प्रतिपक्ष संजय पांडे ने कहा कि, जिस तरह से कांग्रेस के गुंडे हाथापाई और गाली-गलौज पर उतारू हो गए, जिन्होंने निगम की मर्यादा को भंग किया है। वो दिन नगर निगम के इतिहास का काला दिन है। सत्ता पक्ष की महापौर ने भी जिस तरह से दुर्व्यवहार किया है वह भी बर्दाश्त से बाहर है। कांग्रेसी जब तक भ्रष्टाचार करते रहेंगे तब तक विपक्ष की भाजपा भी खामोश नहीं बैठेगी। भले ही उसके लिए की लड़ाई क्यों ना लड़नी पड़ जाए, कांग्रेस के काले चिट्ठे को भाजपा लोगों के सामने लाएगी।

भाजपा के कार्यकर्ताओं ने विशाल रैली निकाल कर प्रदर्शन किया है।
भाजपा के कार्यकर्ताओं ने विशाल रैली निकाल कर प्रदर्शन किया है।

जिला अध्यक्ष बोले- विपक्ष की आवाज को दबाने का था प्रयास
भाजपा के जिलाध्यक्ष रूप सिंह मंडावी ने कहा कि, सामान्य सभा में जिस तरह से कांग्रेसियों का बर्ताव था, उससे साफ दिखता है कि भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने वाली विपक्ष की आवाज को दबाने का प्रयास किया गया। विपक्ष को अपनी बातें रखने का पूरा अधिकार है। उन्होंने जिस तरह से अपनी समस्याएं रखी थी उनका समस्या का समाधान करना था। लेकिन सत्ता पक्ष स्वयं आवेश में आकर हमारे वरिष्ठ ओं के साथ धक्का-मुक्की करने लगे। कांग्रेस ने पूरी शहर का अपमान किया है। वह अपने सत्ता के नशे में चूर हो चुकी है।

नगर निगम में सोमवार को भाजपा और कांग्रेस पार्षदों के बीच धक्का-मुक्की हुई थी।
नगर निगम में सोमवार को भाजपा और कांग्रेस पार्षदों के बीच धक्का-मुक्की हुई थी।

यह था पूरा मामला
जगदलपुर नगर निगम में सोमवार को 12 बजे सामान्य सभा की बैठक आयोजित की गई। प्रश्नकाल से शुरुआत हुई बैठक में एक-एक कर पार्षदों के प्रश्न चिट सिस्टम से सदन के सामने आने लगे। सदन में विक्रम सिंह ने नेता प्रतिपक्ष को सप्लायर कहा तो जवाब में नेता प्रतिपक्ष संजय पांडे ने कहा कि, अब शराबी हम पर आरोप लगा रहे हैं। माहौल और गरमा गया जब सभापति ने एक तरफा फैसला सुनाते हुए सिर्फ नेता प्रतिपक्ष को ही माफी मांगने को कहा। माफी नहीं मांगने पर उन्हें सदन से निलंबित कर दिया गया। निगम इतिहास में पहली बार हुआ कि नेता प्रतिपक्ष को निलंबित किया हो। नेता प्रतिपक्ष के बाहर जाते ही भाजपा पार्षदों ने सदन का बहिष्कार किया और नारेबाजी शुरू की थी।

खबरें और भी हैं...