बरसाती नाले में आ गए मगरमच्छ:नहाने गए थे ग्रामीण, जैसे ही पानी में घुसे नजर आए 3 मगरमच्छ, वन विभाग को दी गई सूचना; 8 घंटे बाद भी नहीं पकड़ पाई टीम

जगदलपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मोरठपाल के कोयार नाले में शनिवार की सुबह नहाने गए ग्रामीणों ने 3 मगरमच्छ देखे। - Dainik Bhaskar
मोरठपाल के कोयार नाले में शनिवार की सुबह नहाने गए ग्रामीणों ने 3 मगरमच्छ देखे।

जगदलपुर संभागीय मुख्यालय से महज 11 किमी दूर स्थित बरसाती नाले में शनिवार सुबह 3 मगरमच्छों को देखा गया है। बताया गया है कि ग्रामीण यहां नहाने गए थे। तभी अचानक उन्हें 3 मगरमच्छ दिखाई दिए। जिसके बाद इसकी सूचना वन विभाग को दी गई है। फिलहाल वन विभाग की रेस्क्यू टीम मगरमच्छों का रेस्क्यू करने लगी हुई है। लेकिन 8 घंटे बीत जाने के बाद भी अब तक उन्हें नहीं निकाला जा सका है।

मगरमच्छ को देखने ग्रामीणों की भीड़ इकठ्ठा होनी शुरू हो गई।
मगरमच्छ को देखने ग्रामीणों की भीड़ इकठ्ठा होनी शुरू हो गई।

पानी में नहाने उतरा था युवक, सामने था मगरमच्छ

शनिवार की सुबह गांव के कुछ ग्रामीण कोयार स्थित नाले में नहाने के लिए गए हुए थे। उनमें से एक युवक ने नहाने के लिए पानी में छलांग लगाया। उसी समय पास में खड़े अन्य ग्रामीणों ने पानी में तैरते हुए मगरमच्छ का सिर देखा। जिसके बाद उन्होंने पानी के अंदर नहा रहे युवक को फौरन बाहर निकलने को कहा। देखते ही देखते ग्रामीणों की भीड़ इकठ्ठा होनी शुरू हो गई। कोयार नाले के दूसरी छोर में दूसरा मगरमच्छ भी ग्रामीणों को दिखा। जिन्होंने इसकी सूचना वन अमले को दी।

डैम के पास बिछाया जाल, अब तक एक भी नहीं पकड़ाए

जगदलपुर DFO स्टायलो मंडावी ने बताया कि ग्रामीणों की सूचना मिलने के बाद रेस्क्यू टीम को भेजा गया है। नाले में स्थित डैम के पास लगभग 2 से 3 जाल बिछाए गए हैं। हालांकि ग्रामीणों की शोरगुल की वजह से मगरमच्छ अभी नजर नहीं आ रहे है। इस नाले में शनिवार की सुबह लगभग 3 से 5 फिट लंबे 3 मगरमच्छ को देखा गया। रेस्क्यू टीम के द्वारा मगरमच्छों को पकड़ने की पूरी कोशिश की जा रही है।

रेस्क्यू टीम के द्वारा मगरमच्छों को पकड़ने की पूरी कोशिश की जा रही है।
रेस्क्यू टीम के द्वारा मगरमच्छों को पकड़ने की पूरी कोशिश की जा रही है।

इंद्रावती नदी से आए तीनों मगरमच्छ

कोयार नाला इंद्रावती नदी के बेहद करीब है। रोजाना सुबह और शाम के समय नहाने के लिए ग्रामीणों की भीड़ यहां उमड़ती है। बताया जा रहा है कि इंद्रावती नदी से ही मगरमच्छ खेतों के सहारे होते हुए कोयार नाले में आए हैं। अभी मगरमच्छों का प्रजननकाल भी चल रहा है। ये मगरमच्छ नाले में कब से हैं, हालांकि इसकी जानकारी अभी नहीं है। इन मगरमच्छों को मीठे पानी का मगर कहा जाता है।

पाहुरनार घाट से मगरमच्छ के 17 बच्चों का किया था रेस्क्यू

27 जून को इंद्रावती नदी के पाहुरनार घाट से ग्रामीणों की सूचना के बाद मगरमच्छ के 17 बच्चों का रेस्क्यू किया गया था। जिन्हें ग्रामीणों ने इंद्रावती नदी के पास में ही स्थित बरसाती नाले में देखा था। वन अमले ने रेस्क्यू कर सभी को सुरक्षित इंद्रावती नदी में छोड़ दिया था।

खबरें और भी हैं...