नक्सलियों के निशाने पर फिर जवान, अलर्ट:शहीदी सप्ताह पर किरंदुल-विशाखापट्नम रेलवे ट्रैक उखाड़ने की साजिश; दंतेवाड़ा SP बोले- जवानों को एंबुश में फंसाना चाहते थे

जगदलपुरएक वर्ष पहले
शहीदी सप्ताह के दौरान नक्सली रेलवे ट्रैक को उखाड़ कर जवानों को एंबुश में फंसाने की योजना बना रहे थे। (फाइल फोटो)

छत्तीसगढ़ में नक्सली एक बार फिर बड़ी संख्या में जवानों को निशाना बनाने की साजिश रच रहे हैं। शहीदी सप्ताह के बहाने नक्सली किरंदुल-विशाखापट्नम रेलवे लाइन उखाड़ जवानों को एंबुश में फंसाना चाहते थे। एक दिन पहले गुरुवार को दंतेवाड़ा में हुई मुठभेड़ के बाद यह जानकारी निकल कर आई है। इसके लिए कई इनामी नक्सलियों के भी पहुंचने की सूचना थी। दंतेवाड़ा SP डॉ.अभिषेक पल्लव ने इसकी पुष्टि की है। साथ ही आसपास के थानों को अलर्ट कर दिया गया है।

दरअसल, बस्तर में नक्सली 28 जुलाई से 3 अगस्त तक शहीदी सप्ताह मना रहे हैं। इसी दौरान नक्सलियों की प्लाटून नंबर 13 व भैरमगढ़ एरिया कमेटी ने रेलवे ट्रैक को उखाड़ने की तैयारी की है। इसे लेकर पुलिस पहले से अलर्ट थी। अब नक्सलियों की इस साजिश का पता चलने के बाद सर्चिंग और तेज की जाएगी। इससे 3 दिन पहले भी नक्सल ऑपरेशन के स्पेशल DG अशोक जुनेजा भी पुलिस अधिकारियों की बैठक लेकर सतर्क रहने के निर्देश दिए थे।

कुख्यात जग्गू, बिरजू और अजय का एनकाउंटर:ढोलकल की पहाड़ियों के पीछे आधा घंटा चली पुलिस-नक्सली मुठभेड़, 3 नक्सलियों के शव सहित विस्फोटक बरामद, घायल सेक्शन कमांडर को लेकर भागे

एनकाउंटर में 3 नक्सली हुए थे ढेर
दंतेवाड़ा जिले की ढोलकल की पहाड़ी के पीछे गुरुवार की शाम पुलिस और नक्सलियों के बीच जबरदस्त मुठभेड़ हुई। इस मुठभेड़ में DRG जवानों ने 2 इनामी समेत 3 नक्सलियों को ढेर किया था। मरने वाले में एक 5 लाख रुपए का तो वहीं दूसरा 1 लाख रुपए का इनामी नक्सली भी शामिल हैं। घटना स्थल की सर्चिंग के दौरान जवानों ने भारी मात्रा में हथियार व दैनिक उपयोग का सामान भी बरामद हुआ है।

लोन वर्राटू से नक्सलियों में बौखलाहट
दक्षिण बस्तर में माओवादियों को सबसे ज्यादा नुकसान दंतेवाड़ा पुलिस के लोन वर्राटू अभियान से हुआ है। इस अभियान के तहत सालभर में 101 इनामी समेत 380 से ज्यादा माओवादी सरेंडर कर चुके हैं। दंतेवाड़ा देश का पहला ऐसा जिला है, जहां नक्सलियों के खिलाफ चलाए जा रहे किसी अभियान से प्रभावित होकर सैकड़ों नक्सलियों ने हिंसा का रास्ता छोड़ा है। दंतेवाड़ा जिले में माओवादी अब बैक फुट पर नजर आ रहे हैं। जिले में नक्सलियों का वर्चस्व खत्म होता देख अब नक्सलियों के सेंट्रल कमेटी में भी बौखलाहट देखने को मिल रही है। यही वजह है कि अब नक्सली किसी बड़ी घटना को अंजाम देने के फिराक में है।

साल भर में दंडकारण्य में ही 101 नक्सलियों की हुई मौत
हाल ही में नक्सलियों की सेंट्रल कमेटी के द्वारा जारी किए गए प्रेस नोट में दंडकारण्य में सबसे ज्यादा 101 माओवादियों की मौत का जिक्र किया गया था। बीजापुर, सुकमा व दंतेवाड़ा में हुई पुलिस नक्सली मुठभेड़ व बीमारी से कई नक्सलियों की मौत हुई है। पिछले सालभर में दण्डकारण्य में ही नक्सलियों को सबसे बड़ा झटका लगा है। इस प्रेस नोट में 28 जुलाई से 3 अगस्त तक नक्सलियों के द्वारा शहीदी सप्ताह मनाने की बात भी लिखी हुई थी।

बीजापुर के जंगलों में पुलिस-नक्सली मुठभेड़ खत्म:मौके से एक वर्दीधारी नक्सली का शव बरामद, पुलिस का दावा-3 से 4 माओवादी ढेर; CRPF का जवान और एक ग्रामीण भी घायल

सभी थाने को अलर्ट रहने के लिए कहा
दंतेवाड़ा SP डॉ अभिषेक पल्लव ने कहा कि शहीदी सप्ताह के दौरान नक्सली किसी बड़ी घटना को अंजाम देने के फिराक में थे। भैरमगढ़ एरिया कमेटी व प्लाटून नम्बर 13 के नक्सली रणनीति भी बना रहे थे। मुठभेड़ में 3 नक्सलियों को ढेर किया गया है। वहीं सभी थाना क्षेत्रों में अलर्ट भी जारी किया गया है।

खबरें और भी हैं...