मिलेंगे अनुभवी डॉक्टर:मेकॉज के 2 विभागों में पीजी की पढ़ाई हो रही 6 विभागों की 48 सीटों को मान्यता की उम्मीद

जगदलपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बस्तर में स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ चिकित्सा शिक्षा के विस्तार की तरफ बढ़े कदम

डिमरापाल के मेडिकल कॉलेज में जहां दो विभागों की 5 सीटों पर पीजी की पढ़ाई जारी है, वहीं 6 विभागों में पीजी की पढ़ाई शुरू कराने की कवायद जारी है। यहां मेडिसिन विभाग में पीजी की पढ़ाई शुरू करने को लेकर लंबे समय से कोशिश की जा रही थी, जिसके बाद अब यहां इसमें 12 सीटों को मान्यता देने की कवायद शुरू हो चुकी है।

ऐसी उम्मीद है कि आने वाले समय में मेडिसिन में पीजी कोर्स को भी यहां मान्यता मिल जाएगी। मेकॉज में जिन दो विभागों में पीजी की पढ़ाई शुरू हो चुकी है, उनमें ऑप्थैल्मोलॉजी (नेत्र विभाग) और फॉरेंसिक मेडिसिन शामिल हैं। इसके अलावा सर्जरी, गायनेकोलॉजी,पैथोलॉजी, कम्युनिटी मेडिसिन, पीडियाट्रिक्स और मेडिसिन में पीजी कोर्स शुरू करने की तैयारियां जारी हैं। सभी विभागों में पीजी की पढ़ाई को मान्यता मिलने के बाद मेकॉज से 8 विभागों की 48 सीटों पर पीजी की पढ़ाई शुरू हो जाएगी।

मेकॉज में कुल सीटों की संख्या 105 हो गई है, 5 सीटों पर पीजी की पढ़ाई जारी
मेकॉज के ऑप्थेल्मोलॉजी (नेत्र विभाग) में पीजी के लिए 2 सीटों को नेशनल मेडिकल कमीशन (एनएमसी) पहले ही मान्यता दे चुकी है। इसके अलावा फॉरेंसिक मेडिसिन में 3 सीटों की मान्यता के बाद इसमें भी यहां पीजी का कोर्स शुरू हो चुका है। ऐसे में एमबीबीएस की 100 सीटों के साथ ही पीजी के लिए इन 5 सीटों को भी एनएमसी द्वारा मान्य किए जाने के बाद अब यहां कुल सीटों की संख्या 105 हो गई है।

मान्यता देने एनएमसी की टीम कर चुकी जांच
पिछले महीनों पीजी की सीटों को मान्यता देने की कवायद के तहत सर्जरी, गायनेकोलॉजी, पैथोलॉजी, कम्युनिटी मेडिसिन, पीडियाट्रिक्स में एनएमसी की टीमों का दौरा हो चुका है। सोमवार को टीम ने मेडिसिन में पीजी के लिए दौरा किया था, जहां 12 सीटों को मान्यता देने की कवायद भी शुरू कर दी गई है।

हर साल 48 अनुभवी डॉक्टर मिल सकेंगे
इधर सभी 8 विभागों में पीजी की सीटों को मान्यता मिल जाने से मेकॉज को हर साल 48 एमबीबीएस डॉक्टर मिलेंगे, जो यहां पढ़ाई करने के साथ ही विभागों से जुड़ी ओपीडी और वार्डों में भी अपनी सेवाएं बतौर प्रैक्टिकल और इंटर्नशिप देंगे। इन डॉक्टरों के अनुभव का फायदा मेकॉज के अस्पताल को मिलेगा।

6 और विभागों में पीजी कोर्स शुरू करवाने की कोशिश कर रहे: मेकॉज अधीक्षक
मेकॉज के अस्पताल अधीक्षक डॉ. टीकू सिन्हा ने बताया कि बस्तर जैसे अंचल के लिए पीजी की पढ़ाई की शुरुआत एक वरदान होगी। हालांकि यहां दो विभागों की 5 सीटों पर पीजी की पढ़ाई शुरू हो चुकी है, जबकि 6 अन्य विभागों में पीजी की मान्यता को लेकर कोशिश जारी है। सभी विभागों को पीजी की मान्यता मिली तो हर साल मेकॉज को 48 अनुभवी डॉक्टर मिलेंगे, जिसका फायदा बस्तर को मिलेगा। हमारी तरफ से पूरी कोशिश की जा रही है कि पीजी की पढ़ाई शुरू कर दी जाए। इसके लिए तैयारियां भी जारी हैं।

सिर्फ मेकाहारा में होती है मेडिसिन में पीजी
वर्तमान में सिर्फ रायपुर के मेकाहारा(मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल रायपुर) में ही मेडिसिन में पीजी की पढ़ाई हो रही है। इसके अलावा पूरे प्रदेश में कोई भी दूसरा ऐसा मेडिकल कॉलेज नहीं है, जहां मेडिसिन में पीजी के पाठ्यक्रम को मान्यता मिली हो।

खबरें और भी हैं...