बीच सड़क जुआरी लाइव:खुलेआम जमी जुए की महफिल, बीजापुर-दंतेवाड़ा के व्यापारी भी जुटे; हर घंटे पुलिस को फोन कर होती सेटिंग

जगदलपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दिवाली की रात बस स्टैंड में खुलेआम जुआ खेल चल रहा था। - Dainik Bhaskar
दिवाली की रात बस स्टैंड में खुलेआम जुआ खेल चल रहा था।

दंतेवाड़ा जिले की व्यावसायिक नगरी गीदम में दिवाली की रात खुलेआम जुआरियों की महफिल जमी हुई थी। बस स्टैंड, ठेला समेत नेशनल हाईवे के किनारे स्थित पान की दुकान के पास ताश पत्तियों का गेम खुलेआम चलता रहा। शहर के कड़तीपारा में बड़े जुआरियों की महफिल थी। सब कुछ पुलिस की नाक के नीचे और उनकी रजामंदी से चल रहा था। दैनिक भास्कर ने इन्हीं जगहों की ग्राउंड रिपोर्ट कर जुआरियों की लाइव तस्वीरें अपने कैमरे में कैद की हैं।

शहर के कड़तीपारा में सबसे बड़ा फड़ बैठा हुआ था। यहां नदी किनारे खुले आसमान के नीचे लाखों रुपए का खेल चल रहा था। इसी जगह दंतेवाड़ा और बीजापुर जिले के भी कुछ जुआरी पहुंचे हुए थे। एक-एक जुआरी 1-1 लाख रुपए का दांव लगा रहा था। जुआरियों का यह अड्डा पुलिस के संरक्षण में था। हर थोड़ी देर में गीदम थाना में रात में ड्यूटी में तैनात जवानों और जुआ खिलाने वालों के बीच फोन के माध्यम से संपर्क हो रहा था। एक जवान ने कहा कि, 'तुम लोग आराम से खेलो, हम लोग दूसरी तरफ जा रहे हैं।' यह मामला रात करीब 2:30 मिनट का है।

गायत्री मंदिर के पास ठेले में चल रहा था जुआ का खेल।
गायत्री मंदिर के पास ठेले में चल रहा था जुआ का खेल।

इससे पहले रात करीब 11:50 मिनट पर गीदम के पुराना बस स्टैंड के सामने नेशनल हाइवे के किनारे एक बंद दुकान के बाहर करीब 30 से 40 जुआरी खुलेआम जुआ खेल रहे थे। यहां करीब 3 लाख रुपए से ज्यादा का गेम चल रहा था। जिस समय यहां जुआ खेला जा रहा था उस समय शहर में काफी चहल-पहल भी थी। करीब आधे घंटे तक यहां ताश के पत्तों का खेल चलता रहा। कुछ नाबालिग भी इसमें लगे हुए थे। इसी समय शहर के PWD पारा में भी जुआरी खेलने का इंतजाम कर ही रहे थे कि पुलिस ने दबिश दी। जिससे सारे जुआरी भाग गए।

बस स्टैंड में रेड की कार्रवाई करने के बाद ताश की पत्तियों को पकड़े हुए थाना प्रभारी जयसिंह खूंटे।
बस स्टैंड में रेड की कार्रवाई करने के बाद ताश की पत्तियों को पकड़े हुए थाना प्रभारी जयसिंह खूंटे।

जुआरियों का हौसला इतना बुलंद था कि, रात करीब 1:30 मिनट पर गीदम बस स्टैंड के बीचों बीच में बैठ कर जुआ खेल रहे थे। उन्हें बस स्टैंड में लगे CCTV कैमरे का भी डर नहीं था। जब भास्कर की टीम बस स्टैंड पहुंची तो देखा कि प्लास्टिक की बोरी बिछा कर गेम चला रहे थे। दूसरी तरफ गायत्री मंदिर के पास स्थित एक ठेले में भी गेम चल रहा था। इन दोनों जगहों पर लगभग 2.50 लाख रुपए का दांव लगा था। यहां थाना प्रभारी जयसिंह खूंटे ने अचानक रेड मारी, जिसमें 4 से 5 लोगों को दबोचा गया।

इसी CCTV कैमरे के नीचे बैठ चल रहा था जुआ।
इसी CCTV कैमरे के नीचे बैठ चल रहा था जुआ।

कार्रवाई के बाद गुस्साए लोग, कहा पुलिस ने धोखा दिया
बस स्टैंड में पुलिस ने रेड मारकर कुछ लोगों को पकड़ा जिसके बाद अन्य लोग भाग खड़े हुए। पुलिस के जाने के बाद एक बार फिर बस स्टैंड में भीड़ जमा हुई। लेकिन यहां दोबारा जुआ नहीं खेल रहे थे, बल्कि उन्हें अपने साथियों के पकड़े जाने का गम सता रहा था। यहां जोरो से चर्चा चल रही थी कि पुलिस ने हमारे साथ धोखा किया है। साल में एक ही बार जुआ खेलने का मौका मिलता है। हम लोग बात करके खेल रहे थे। लेकिन पुलिस वाले पकड़ने के लिए आ गए। यह चर्चा रात लगभग 3:15 मिनट में चल रही थी।