PCC चीफ के मौन पर पूर्व मंत्री का सवाल:केदार कश्यप बोले- मोहन मरकाम का मौन व्रत राजनीतिक नौटंकी, CM भी नहीं लेते प्रदेश अध्यक्ष को गंभीरता से

जगदलपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मोहन मरकाम के मौन व्रत को केदार कश्यप ने राजनितिक नौटंकी बताया है। - Dainik Bhaskar
मोहन मरकाम के मौन व्रत को केदार कश्यप ने राजनितिक नौटंकी बताया है।

छत्तीसगढ़ के बस्तर में इन दिनों राजनीतिक माहौल काफी गरमाया हुआ है। सिलगेर और लखीमपुर खीरी मामले में एक के बाद दिग्गज नेताओं का बयान सामने आ रहे हैं। लखीमपुर की घटना के बाद छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष मोहन मरकाम के मौन व्रत को भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता व पूर्व मंत्री केदार कश्यप ने राजनीतिक नौटंकी बताया है। केदार ने कहा है कि, मोहन मरकाम को उनके विधायक व छतीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी गंभीरता से नहीं लेते हैं।

केदार ने कहा कि, छत्तीसगढ़ के कांग्रेसी विधायक दिल्ली शक्ति प्रदर्शन के लिए जाते हैं, लेकिन मोहन मरकाम को पता नहीं होता है। वह वीडियो जारी कर अपील करते हैं, कोई गंभीरता से नहीं लेता। महापौर, निगम मंडल अध्यक्षों की दिल्ली जाने कतार लग जाती है और कांग्रेस अध्यक्ष अपील करते ही रह जाते हैं। यह कांग्रेस अध्यक्ष के अस्तित्व पर भी सवाल खड़ा करता है। फिर उनके मौन व्रत का क्या औचित्य है? छत्तीसगढ़ में चल रही कुर्सी की लड़ाई के बीच मोहन मरकाम मौन व्रत की राजनीतिक नौटंकी में लगे हुए हैं।

महेश गागड़ा ने बीजापुर में मीडिया से बात की
महेश गागड़ा ने बीजापुर में मीडिया से बात की

एडसमेटा घटना की न्यायिक जांच रिपोर्ट के अनुसार हो कार्रवाई
सिलगेर में हुई घटना के बाद भाजपा का प्रतिनिधिमंडल घटनास्थल पहुंचा था। ग्रामीणों के साथ हुई घटना पर राज्यपाल को ज्ञापन सौंपते हुए परिवार को एक करोड़ का मुआवजा सहित परिवार से एक व्यक्ति को शासकीय सेवा में लेने की मांग रखी थी। साथ ही घायलों को 50 लाख रुपए का मुआवजा व शासकीय नौकरी देने को कहा था। इन सब के बाद भी CM भूपेश बघेल का किसी के घटना स्थल न पहुंचने का बयान हास्यास्पद है। इधर, एडसमेटा घटना के बारे में गागड़ा ने कहा कि, न्यायिक जांच रिपोर्ट आने के बाद उसी के अनुसार सरकार को कार्रवाई करनी चाहिए।

PCC चीफ ने दंतेवाड़ा जिले के गीदम में 2 घंटे का मौन व्रत रखा था।
PCC चीफ ने दंतेवाड़ा जिले के गीदम में 2 घंटे का मौन व्रत रखा था।

2 दिन पहले PCC चीफ का था मौन व्रत
उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी की घटना को लेकर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष मोहन मरकाम ने दंतेवाड़ा जिले के गीदम में 2 घंटे का मौन व्रत रखा था। इस दौरान उन्होंने उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ की सरकार को बर्खास्त करने की मांग की थी। सिलगेर के ग्रामीणों को मुआवजा न देने वाले सवाल पर मोहन मरकाम ने कहा था कि,अंदर वालों के दबाव में (बस्तर में अमूमन अंदर वाले शब्द का प्रयोग नक्सलियों के लिए किया जाता है।) ग्रामीण मुआवजा नहीं ले रहे हैं।

खबरें और भी हैं...