यहां जुआ खेलने की अनुमति!:गीदम में तीन जिलों के जुआरियों के पहुंचने का आरोप, BJP बोली- जुआरियों की पुलिस के साथ हुई लाखों की डील

जगदलपुर/दंतेवाड़ा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले के व्यावसायिक नगरी गीदम में दिवाली की रात जमकर जुआरियों की महफिल सजेगी। ऐसा भाजपा नेताओं का आरोप है। आज रात जुआ खेलने के लिए पुलिस द्वारा अनुमति देने की चर्चा भी शहर में जोरों पर है। अब इस मामले ने भी तूल पकड़ लिया है। भाजपा के दंतेवाड़ा जिला अध्यक्ष चैतराम अटामी ने भी कांग्रेस सरकार को घेरा है। उन्होंने कहा कि, छत्तीसगढ़ में कांग्रेस का राज है और कांग्रेस राज में अपराध का भी राज होता है। इधर थाना प्रभारी जयसिंह खूंटे ने कहा कि, कुछ असामाजिक तत्व पुलिस को बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं।

बताया जा रहा है कि ​​​, गीदम थाना इलाके के रोंजे, कटुलनार, गुमड़ा, पनेड़ा, हाईस्कूल मैदान के पीछे स्थित डोंगरी (पहाड़ी इलाका) समेत 2-3 अन्य जगहों पर आज रात ताश की पत्तियों का खेल चलेगा। जगदलपुर, दंतेवाड़ा और बीजापुर इन तीन जिलों का गीदम प्रमुख पॉइंट है। जुआ खेलने के लिए इन तीनों जिले से भी दर्जनों जुआरी आज रात गीदम पहुंचेंगे। जुआ का खेल खेलाने वाले इन सभी जगहों पर बाहर से आने वाले जुआरियों को सही ठिकाने पर पहुंचाने के लिए लगे हुए हैं।

पूर्व अध्यक्ष बोले- पुलिस और कांग्रेस कर रही युवाओं को बर्बाद
भाजपा नेता और गीदम के पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष अभिलाष तिवारी ने कहा कि, भाजपा के शासन काल में गीदम शहर को धार्मिक कार्यों के लिए जाना जाता था। लेकिन जब से कांग्रेस की सत्ता आई है तब से अवैध कारोबार के लिए गीदम की पहचान हो रही है। कुछ कांग्रेस के बड़े नेताओं के साथ मिलकर जुआरियों ने गीदम पुलिस के साथ एक दिन के लिए जुआ खेलाने की लाखों रुपए की सेटिंग की है। कांग्रेस और पुलिस दोनों मिलकर शहर के युवाओं को बर्बाद करने के लिए लगे हुए हैं। यदि ऐसा ही चलता रहा तो कई युवाओं का भविष्य खतरे में होगा।

अध्यक्ष बोलीं- अपराध पर कसेंगे लगाम
गीदम नगर पंचायत अध्यक्ष साक्षी रविश सुराना ने कहा कि, गीदम पुलिस के साथ समन्वय स्थापित कर जुआरियों को पकड़ने की कार्रवाई की जाएगी। शहर में जुआ और अवैध कारोबार को बढ़ावा देने का काम करने वालों पर कड़ी कार्रवाई करने कहा जाएगा। उन्होंने भाजपा के नेताओं के बयानों का पलटवार करते हुए कहा कि, उनका तो काम ही है आरोप लगाना। भाजपा के कार्यकाल में शहर में कई अपराध हुए हैं। जब से कांग्रेस की सत्ता आई है अपराध पर लगाम लगे हैं।