पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दंतेवाड़ा में मालगाड़ी डिरेल:​​​​​​​गाड़ी के 7 डिब्बे पटरियों से नीचे उतरे, ब्रेक फेल होने के चलते हादसा; दिनभर की मशक्कत के बाद बहाल हुआ किरंदुल-विशाखापट्टनम रेल मार्ग

जगदलपुर/दंतेवाड़ा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तकनीकी खराबियों के चलते किरंदुल से विशाखापट्टनम जा रही मालगाड़ी डिरेल हो गई। - Dainik Bhaskar
तकनीकी खराबियों के चलते किरंदुल से विशाखापट्टनम जा रही मालगाड़ी डिरेल हो गई।

दंतेवाड़ा जिले के किरंदुल-विशाखापट्टनम रेल मार्ग पर बचेली के पास मालगाड़ी के 7 डिब्बे पटरी से उतर गए। हादसा उस वक्त हुआ जब मालगाड़ी किरंदुल से लौह अयस्क भरकर विशाखापट्टनम की ओर जा रही थी। अचानक मालगाड़ी का ब्रेक फेल होने के चलते गाड़ी के 7 डिब्बे डिरेल हो गए। जिसके चलते सोमवार दिनभर इस मार्ग पर कई मालगाड़ियों और एक पैसेंजर ट्रेन का आवागमन प्रभावित रहा। हालांकि इस हादसे में कोई जनहानि नहीं हुई है और दिनभर की मशक्कत के बाद इस मार्ग को बहाल कर दिया है। हादसा रविवार देर रात का बताया जा रहा है। जिले के अंदरूनी क्षेत्र होने के कारण इसकी जानकारी शाम को सामने आ सकी है।

रफ्तार धीमी थी इसलिए बड़ा हादसा टला

जानकारी के मुताबिक, दंतेवाड़ा जिले के किरंदुल से लौह अयस्क भरकर विशाखापट्टनम जा रही मालगाड़ी का बचेली व भांसी के बीच में अचानक ब्रेक फेल हो गया था। लेकिन मालगाड़ी की रफ्तार धीमी थी इस लिए बड़ा हादसा टल गया। लेकिन फिर भी 7 डिब्बे पटरियों से उतर गए। इसके बाद डिब्बे से लौह अयस्क नीचे गिर गया है। जिसके चलते NMDC को भारी नुकसान हुआ है।

क्रेन की मदद से मालगाड़ी के डिब्बों को उठाया गया।
क्रेन की मदद से मालगाड़ी के डिब्बों को उठाया गया।

वहीं इस मार्ग पर जगदलपुर तक सिंगल लाइन होने की वजह से पैसेंजर सहित अन्य मालगाड़ी भी नहीं चलीं। दिनभर मालगाड़ियों के नहीं आने के चलते भी NMDC को नुकसान हुआ है। हादसे के बाद इसकी जानकरी रेलवे के अधिकारियों को दी गई थी। जिसके बाद सोमवार सुबह से रेलवे कर्मचारियों ने मार्ग बहाल करने का काम शुरू किया था। दिनभर की कड़ी मशक्कत के बाद अब इस मार्ग को बहाल कर दिया गया है।

मार्ग को बहाल करने रेलवे के कर्मचारी दिनभर जुटे रहे।
मार्ग को बहाल करने रेलवे के कर्मचारी दिनभर जुटे रहे।

नक्सलियों के द्वारा डिरेल करने की थी आशंका

किरंदुल-विशाखापट्टनम रेल मार्ग को नक्सली हमेशा अपना निशाना बनाते हुए आए हैं। ढोलकल की पहाड़ी के पीछे हुई मुठभेड़ के बाद खुलासा हुआ था कि 28 जुलाई से 3 अगस्त तक नक्सली शहीदी सप्ताह के दौरान किरंदुल-विशाखापट्टनम रेल मार्ग को क्षति पहुंचा सकते हैं। ऐसे में रविवार की रात मालगाड़ी के डिरेल होने की खबर सुन कर रेलवे व पुलिस विभाग में भी हड़कंप मच गई थी। हालांकि कुछ देर बाद यह स्पष्ट हो गया था कि नक्सली वारदात नहीं, बल्कि तकनीकी खामियों के चलते मालगाड़ी डिरेल हुई है।

खबरें और भी हैं...