वृद्ध को रौंदता हुआ दुकान में घुसा ट्रक:गुस्साए लोगों ने अंदर फंसे ड्राइवर को पीटा, रायपुर-जगदलपुर हाईवे पर लगाया जाम; 5 घंटे बाद अफसरों ने खुलवाया

जगदलपुर7 महीने पहले
तेज रफ्तार हाइवा वाहन ने अपना नियंत्रण खो दिया और सड़क किनारे स्थित एक दुकान में जा घुसी।

छत्तीसगढ़ के कांकेर में रायपुर-जगदलपुर नेशनल हाईवे-30 पर गुरुवार देर रात तेज रफ्तार ट्रक एक वृद्ध को रौंदता हुआ दुकान में जा घुसा। इसके चलते चालक ट्रक में ही फंस गया। हादसे के बाद गुस्साए लोगों ने ट्रक में फंसे चालक की पिटाई कर दी और हाईवे पर जाम लगा दिया। सूचना मिलते ही कलेक्टर, SP सहित पुलिस फोर्स मौके पर पहुंच गई। घंटों की मशक्कत के बाद ड्राइवर को ट्रक से बाहर निकाल कर अस्पताल में भर्ती कराया गया। अफसरों की समझाइश के बाद लोग शांत हुए और जाम खुल सका।

तेज रफ्तार ट्रक चारामा क्षेत्र के तेलगरा इलाके में अनियंत्रित हो गया और सड़क किनारे खड़े ग्रामीण को रौंदता हुआ दुकान में जा घुसा।
तेज रफ्तार ट्रक चारामा क्षेत्र के तेलगरा इलाके में अनियंत्रित हो गया और सड़क किनारे खड़े ग्रामीण को रौंदता हुआ दुकान में जा घुसा।

रायपुर की ओर से आ रही तेज रफ्तार ट्रक चारामा क्षेत्र के तेलगरा इलाके में अनियंत्रित हो गया और सड़क किनारे खड़े ग्रामीण को रौंदता हुआ दुकान में जा घुसा। मारे गए ग्रामीण की पहचान रूप सिंह मंडावी (60) के रूप में हुई है। गलत दिशा से आए ट्रक से हादसा होने पर लोग भड़क गए। उन्होंने ट्रक में फंसे चालक की पिटाई शुरू कर दी। सूचना पर चारामा थाना पुलिस मौके पर पहुंची और लोगों को शांत कराने का प्रयास किया। उनके नहीं मानने पर जवानों को बुलाया गया।

ट्रक के अंदर फंसे चालक की गुस्साए ग्रामीणों ने पिटाई भी की।
ट्रक के अंदर फंसे चालक की गुस्साए ग्रामीणों ने पिटाई भी की।

5 घंटे तक रहा चक्काजाम, मौके पर पहुंचे अफसर
इसके बाद मौके पर कांकेर, कोरर और चारामा थाना के जवान मौके पर पहुंचे। जब भीड़ काबू में नहीं आई तो पुलिस लाइन के जवानों को भी बुलाया गया। कांकेर कलेक्टर चंदन कश्यप और SP शलभ सिन्हा भी पहुंच गए। ट्रक चालक को निकालने की कोशिश शुरू की गई। इस दौरान गुस्साए लोगों ने हाईवे जाम कर दिया। करीब 5 घंटे तक हंगामा चलता रहा। इसके चलते जगदलपुर से रायपुर मार्ग घंटों बंद रहा। दोनों तरफ वाहनों की लंबी कतार लग गई। अफसरों के काफी समझाने के बाद लोग माने और जाम को खोला।

ग्रामीणों को समझाइश देते कलेक्टर चंदन कश्यप
ग्रामीणों को समझाइश देते कलेक्टर चंदन कश्यप

जवानों के पीछे खड़े होकर बोले कलेक्टर - कानून को हाथ में न लें
कलेक्टर चंदन कश्यप जब मौके पर पहुंचे तो भीड़ बेहद आक्रोशित थी। पहले तो कलेक्टर लोगों के बीच पहुंच कर उन्हें समझाइश दे रहे थे। लेकिन, भीड़ को उग्र होता देख उन्हें जवानों के पीछे खड़े होकर बोलना पड़ा। ग्रामीणों के सामने पहले जवानों ने मानव श्रृंखला बनाई, ताकि कोई भी ग्रामीण कलेक्टर तक न पहुंच सके। इस मानव श्रृंखला के पीछे खड़े होकर कलेक्टर ने ग्रामीणों से कहा कि, आप सभी कानून को अपने हाथ में न लें। यहां प्रशासन और पुलिस दोनों मौजूद हैं। मामले के संबंध में उचित कार्रवाई की जाएगी।

भीड़ को उग्र होता देख कलेक्टर को जवानों के पीछे खड़े होकर बोलना पड़ा।
भीड़ को उग्र होता देख कलेक्टर को जवानों के पीछे खड़े होकर बोलना पड़ा।

चालक को भीड़ से बचाने अधिकारियों के भी छूटे पसीने
ट्रक ड्राइवर को सुरक्षित तरीके से ट्रक से बाहर निकालना और उसे अस्पताल पहुंचाने तक प्रशासन के भी पसीने छूट गए। वाहन में फंसे चालक को बाहर निकालने व भीड़ से बचाने के लिए तगड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई थी। फिर किसी तरह चालक को निकाल एम्बुलेंस में बैठा कर अस्पताल ले जाया जा रहा था कि आक्रोशित भीड़ ने एम्बुलेंस पर भी पथराव करना शुरू कर दिया। इधर उग्र होती भीड़ को देख और चालक की सुरक्षा को देख पत्रकारों से भी प्रशासन ने चालक की तस्वीरें न लेने व नाम और पता न लिखने की की मदद मांगी।

खबरें और भी हैं...