IED ब्लास्ट की चपेट में आए 2 मजदूर:पंप हाउस में तोड़-फोड़ के बाद माओवादियों ने लगा रखी थी IED, मरम्मत के दौरान हुआ ब्लास्ट

जगदलपुर/नारायणपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

छत्तीसगढ़ के नारायणपुर जिले में IED ब्लास्ट की चपेट में 2 मजदूर आ गए, जो गंभीर रूप से घायल हैं। दोनों घायल मजदूरों का जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है। बताया जा रहा है कि नक्सलियों द्वारा तोड़े गए पंप हाउस की मरम्मत करने के लिए दोनों मजदूर गए हुए थे। जहां नक्सलियों ने प्रेशर IED लगा रखी थी। मरम्मत के दौरान ही IED ब्लास्ट हो गया। मामला भरंडा थाना क्षेत्र का है।

जानकारी के मुताबिक, रविवार-सोमवार की रात नक्सलियों ने अंजरेल गांव के BSF कैंप से महज 1 किमी की दूरी पर स्थित पंप हाउस में पंप को तोड़ दिया था। मौके पर भारी संख्या में बैनर-पोस्टर भी लगाए गए। माओवादियों ने यहां सामान के नीचे एक प्रेशर IED भी दबा कर रखी थी जिसकी क्लिप टूटे फूटे सामानों में लगी हुई थी। वहीं घटना की जानकारी मिलते ही मंगलवार सुबह पंप हाउस की मरम्मत करने के लिए आंध्रप्रदेश के सेख असलम (36) और तोड़की गांव के रहने वाले पवन पात्र (40) पहुंचे थे।

घायलों का जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है।
घायलों का जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है।

दोनों ने पहले यहां रखे बैनर पोस्टर को हटाया, फिर माओवादियों ने जिन सामानों की तोड़-फोड़ की थी उसकी मरम्मत करनी शुरू कर दी। इस बीच टूटे सामान के नीचे नक्सलियों ने जो प्रेशर IED दबा कर रखी हुई थी वो ब्लास्ट हो गया। जिससे दोनों मजदूर गंभीर रूप से घायल हो गए।

मौके पर पहुंचे जवानों और आस-पास के ग्रामीणों ने दोनों को जिला अस्पताल पहुंचाया, जहां उनका इलाज चल रहा है। डॉक्टरों की माने तो दोनों के सिर, चेहरा और हाथ में गंभीर चोटें आईं है। इधर इस घटना के बाद इलाके की सर्चिंग भी बढ़ा दी गई है।