पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

गड़बड़ी:संक्रमण कम पर लापरवाही बढ़ी, कोरोना मरीज को 5 दिन दूसरे मरीजों के साथ रखा

जगदलपुर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बिना सुरक्षा के कोरोना मरीज का इलाज करते रहे डॉक्टर, दूसरे मरीजों में भी मचा हड़कंप

कोरोना की रोकथाम के लिए टीकाकरण की शुरूआत हो गई है और अब संक्रमण के मामले में भी गिने-चुने सामने आ रहे हैं। इस बीच पिछले एक सप्ताह में दो कोरोना पॉजिटिव मरीजों ने दम तोड़ दिया है। मरने वाले दोनों पॉजिटिव बस्तर जिले के ही थे और अब जिले में कोरोना से मरने वालों की संख्या 95 हो गई है। डाॅक्टरों का कहना है कि कोरोना को लेकर लोगों की जरा सी लापरवाही जान पर भारी पड़ रही है। इधर कोरोना संक्रमित नये मरीज नहीं मिलने के बाद लोगों के साथ-साथ स्वास्थ्य अमला भी लापरवाह बन गया है। ताजा मामले में एक कोरोना पॉजिटिव मरीज को मेकाज के आईसीयू में गंभीर मरीजों के साथ पांच दिनों तक रखा गया और रिपोर्ट के अभाव में डाॅक्टर व स्टाफ बिना सुरक्षा के ही उसका इलाज करते रहे। यही नहीं इससे बड़ी लापरवाही यह है कि जब जिम्मेदारों को पता चला कि आईसीयू में भर्ती मरीज कोरोना पाॅजिटिव है तो उसे तो कोविड वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया लेकिन जिस स्टाफ ने उक्त मरीज का इलाज किया था उस स्टाफ को क्वारेंटाइन में ही नहीं भेजा गया। इधर इस खुलासे के बाद डाॅक्टरों, स्टाफ, यहां भर्ती मरीज और उनके परिजनों में हडकंप मचा हुआ है आनन-फानन में सभी की कोरोना जांच करवाई जा रही है।

आरटीपीसीआर रिपोर्ट आईसीयू में न भेजकर मोबाइल पर भेजी, पांच दिन बाद पता चला मरीज पॉजिटिव है
जगदलपुर की एक युवती को हृदय रोग की शिकायत के बाद मेडिकल कॉलेज में पहुंचाया गया। डाॅक्टरों ने यहां मरीज की प्रारंभिक जांच की और उसे आईसीयू में भर्ती करने का निर्णय लिया गया। मरीज को आईसीयू में भेजने से पहले उसका एंटीजन किट से कोरोना चेक किया गया तो रिपोर्ट निगेटिव आई। इसके बाद एक नमूने को आरटीपीसीआर जांच के लिए भी भेजा गया और मरीज को आईसीयू में भर्ती कर दिया गया और मरीज का इलाज शुरू हो गया। पांच दिनों के बाद डाॅक्टरों को पता चला कि जिस मरीज का वे आईसीयू मेंे इलाज कर रहे हैं उसकी आरटीपीसीआर रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। डाॅक्टरों से पॉजिटिव मरीज के संबंध में पूछताछ की तो डिपार्टमेंट के डाॅक्टरों ने मरीज के मोबाइल पर रिपोर्ट भेजने की बात कहते हुए पल्ला झाड़ लिया। इधर मरीज और उनके परिजनों का कहना है कि उन्हें मोबाइल पर कोई रिपोर्ट ही नहीं मिली है जबकि नियमत: मरीज को मोबाइल पर रिपोर्ट भेजने के साथ-साथ माईक्रोबायालाजी डिपार्टमेंट के डाॅक्टरों को आईसीयू में भी एक रिपोर्ट की कॉपी भिजवानी थी।

4 दिनों में सिर्फ 16 नए मामले: इधर बस्तर जिले में पिछले 6 दिनों में सिर्फ 30 नए मामले सामने आए हैं। इससे पहले भी हर रोज इक्का-दुक्का मामले ही सामने आते रहे हैं। देखें पिछले 6 दिनों में कितने मरीज किस तारीख को मिले।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

    और पढ़ें