पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Raipur
  • Jagdalpur
  • Naxal Operation Was Intensified In The Interior Areas Of Bastar, Security Has Also Been Increased In The Railway Route, ADG Also Made A Special Strategy During The Bastar Tour

नक्सली इस सप्ताह कर सकते हैं बड़ा हमला:रेलवे ट्रैक पर बढ़ाई गई सुरक्षा, 28 से शुरू हुआ है नक्सलियों का शहीदी सप्ताह; इस दौरान करते हैं विस्फोट और हमले

जगदलपुर2 महीने पहले
28 जुलाई से नक्सलियों का शहीदी सप्ताह शुरू हो गया है जो 3 अगस्त तक चलेगा।

बस्तर में 28 जुलाई से नक्सलियों का शहीदी सप्ताह शुरू हो गया है, जो 3 अगस्त तक चलेगा। शहीदी सप्ताह के दौरान नक्सली किसी बड़ी घटना को अंजाम न दे सकें इस लिए पूरे बस्तर संभाग में भी पुलिस अलर्ट हो गई है। IG सुंदराज पी ने बस्तर के सातों जिलों के SP को सचेत रहने को कहा है। इधर कुछ दिन पहले नक्सल ऑपरेशन के ADG भी बस्तर में अधिकारियों की बैठक ले चुके हैं। इन दिनों में दो जिलों के बॉर्डर इलाकों में पुलिस ज्यादा पैनी नजर बनाए रखेगी। साथ ही अंदरूनी इलाके में नक्सल ऑपरेशन भी तेज कर दिया गया है।

सेंट्रल कमेटी ने प्रेस नोट जारी कर दी थी जानकारी
हाल ही के कुछ दिन पहले नक्सलियों की सेंट्रल कमेटी ने एक प्रेस नोट जारी कर 28 जुलाई से 3 अगस्त तक शहीदी सप्ताह मनाने की बात कही थी। इधर, मंगलवार को दंतेवाड़ा जिले के किरंदुल-चोलनार मार्ग पर भी नक्सलियों की पश्चिम बस्तर डिवीजन कमेटी ने भारी संख्या में सड़क पर पर्चे फेंके थे व बैनर भी बांधा था। सुकमा जिले के भेज्जी मार्ग में भी कोंटा एरिया कमेटी के नक्सलियों ने बैनर बांध कर शहीदी सप्ताह मनाने की बात लिखी थी। शहीदी सप्ताह के दौरान नक्सली अंदरूनी गांवों में ग्रामीणों की बैठक रख अपने मृत साथियों को श्रद्धांजलि देते हैं। साथ ही कई घटनाओं को अंजाम देने की कोशिश भी करते हैं।

सुकमा जिले के भेज्जी मार्ग में भी नक्सलियों ने बैनर बांध शहीदी सप्ताह मनाने की बात लिखी है।
सुकमा जिले के भेज्जी मार्ग में भी नक्सलियों ने बैनर बांध शहीदी सप्ताह मनाने की बात लिखी है।

ADG ने अधिकारियों की बैठक लेकर बनाई थी विशेष रणनीति
नक्सलियों के शहीदी सप्ताह के शुरू होने से कुछ दिन पहले ही छत्तीसगढ़ के नक्सल ऑपरेशन के स्पेशल ADG अशोक जुनेजा भी बस्तर का दौरा कर चुके हैं। अलग-अलग दिनों में बीजापुर, दंतेवाड़ा व जगदलपुर मुख्यालय में उन्होंने अधिकारियों की गोपनीय बैठक लेकर शहीदी सप्ताह में अलर्ट रहने को कहा था। साथ ही जिन जिलों पर विकास के बड़े निर्माण काम चल रहे हैं वहां ज्यादा फोकस करने अधिकारियों को निर्देश दिए थे।

निशाने पर केके रेलवे मार्ग, बढ़ाई गई है सुरक्षा
शहीदी सप्ताह के दौरान किरंदुल-विशाखापट्टनम रेल मार्ग को नक्सली निशाना बना सकते हैं। कुछ दिन पहले ढोलकल की पहाड़ी के पीछे हुए पुलिस-नक्सली मुठभेड़ हुई थी। यहां रेलवे मार्ग को क्षतिग्रस्त कर फिर जवानों को एंबुश में फंसाने की नक्सली योजना बना रहे थे। यहां मुठभेड़ में जवानों ने एक नक्सली को भी ढेर किया था। इस इलाके में हुई मुठभेड़ के बाद नक्सलियों की रेलवे ट्रैक को निशाना बनाने की रणनीति का खुलासा हुआ था। वहीं, अब जिन-जिन पुलिस थाना क्षेत्रों के अंतर्गत रेल मार्ग आता है उन्हें अलर्ट रहने के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही पुलिस की गश्त भी इलाके में बढ़ा दी गई है।

दंडकारण्य में 100 से ज्यादा नक्सलियों की हुई है मौत
हाल ही में नक्सलियों की सेंट्रल कमेटी के द्वारा जारी किए गए प्रेस नोट में दंडकारण्य में सबसे ज्यादा 101 माओवादियों की मौत का जिक्र किया गया था। बीजापुर, सुकमा व दंतेवाड़ा में हुई पुलिस नक्सली मुठभेड़ व बीमारी से कई नक्सलियों की मौत हुई है। पिछले सालभर में दण्डकारण्य में ही नक्सलियों को सबसे बड़ा झटका लगा है। दंतेवाड़ा पुलिस के लोन वर्राटू अभियान ने भी नक्सलियों की जबरदस्त कमर तोड़ी है। शहीदी सप्ताह के दौरान नक्सली किसी बड़ी घटना को अंजाम देने के फिराक में हैं। इधर बीजापुर, सुकमा नारायणपुर जिले में पुलिस का ज्यादा फोकस है।

दंतेवाड़ा में पहले दिन ही पुलिस को मिली 3 सफलताएं
28 जुलाई से शुरू हुए नक्सलियों के शहीदी सप्ताह के पहले दिन ही दंतेवाड़ा पुलिस को 3 बड़ी सफलताएं मिली हैं। नक्सल ऑपरेशन में निकले जवानों ने बुधवार की सुबह रेवाली गांव में महिला माओवादी बिज्जे और पाले के शहीद स्मारक को ध्वस्त किया। इधर, कुआकोंडा थाना क्षेत्र से एक 5 लाख रुपए के इनामी हार्डकोर इनामी ACM हांदा कर्रा माड़वी को भी गिरफ्तार किया गया है। साथ ही किरंदुल थाना में लोन वर्राटू अभियान के तहत 11 माओवादियों का भी सरेंडर हुआ है। यह पुलिस के लिए बड़ी सफलताएं हैं।

खबरें और भी हैं...