नक्सलियों का 26 जनवरी को बंद:​​​​​​​विशाखापट्ट्नम से किरंदुल तक ट्रेनें 27 तक बंद, जगदलपुर तक चलेंगी, साल में 100 से ज्यादा दिन ऐसा

जगदलपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

छत्तीसगढ़ में नक्सलियों ने एक बार फिर गणतंत्र दिवस पर बंद का ऐलान किया है। ऐसे में किरंदुल से विशाखापट्ट्नम तक चलने वाली दोनों यात्री ट्रेनों का परिचालन फिर प्रभावित रहेगा। वाल्टेयर रेलमंडल ने ट्रेनों को 27 जनवरी तक जगदलपुर में ही रोक दिया है। ऐसे में अब यात्रियों को जगदलपुर में ही ट्रेन छोड़नी होगी और यहीं से पकड़नी भी पड़ेगी। नक्सलियों के बंद के चलते साल में 100 से भी ज्यादा दिन ट्रेनों का परिचालन ऐसे ही प्रभावित रहता है।

इन तारीख पर नक्सली करते हैं बंद का ऐलान
26 जनवरी, 15 अगस्त के अलावा 10 फरवरी को भूमकाल दिवस और 8 मार्च को महिला दिवस पर बंद का ऐलान करते हैं। 23 मार्च को शहीद दिवस, 22 अप्रैल को लेनिन का जन्म दिवस, 1 मई को मजदूर दिवस, 26-27 जून को आर्थिक नाकाबंदी, 9 सितंबर को माओवादी शहीद दिवस, 21 सितंबर को माओवादी स्थापना दिवस मनाते हैं। जगदलपुर रेलवे स्टेशन मास्टर एसएस चंद्रा ने बताया कि सुरक्षा कारणों से यात्री रेलों का संचालन जगदलपुर तक ही किया जा रहा है।

साढ़े तीन महीने से ज्यादा नक्सली मनाते हैं दिवस

  • 20 से 26 जनवरी तक विस्थापन विरोधी सप्ताह।
  • 10 मार्च से नक्सली मनाते हैं टीसीओसी माह।
  • 23 से 29 मार्च को अधिकार सप्ताह मनाते हैं नक्सली।
  • 15 से 21 अप्रैल तक टीसीओसी काला दिवस।
  • 5 से 11 जून जनपितुरी सप्ताह।
  • 26 जून से 2 जुलाई तक दमन विरोधी सप्ताह।
  • 28 जुलाई से 3 अगस्त तक शहीदी सप्ताह मनाते हैं नक्सली।
  • 21 से 27 सितंबर तक स्थापना सप्ताह मनाते हैं नक्सली।
  • 24 से 30 नवंबर तक नक्सली नेता किशनजी की मौत पर शहीदी सप्ताह मनाते हैं नक्सली।
  • 2 से 8 दिसंबर तक पीएलजीए सप्ताह मनाते हैं नक्सली।

25 को नाइट एक्सप्रेस जगदलपुर से लौटेगी
वाल्टेयर रेल मंडल के सीनियर डिवीज़नल कॉमर्शियल मैनेजर एके त्रिपाठी ने बताया कि विशाखापट्‌टनम-किरंदुल नाइट एक्सप्रेस को 25 जनवरी को जगदलपुर में ही रोक दिया जाएगा। इसके बाद 26 जनवरी को ये ट्रेन यहीं से वापस विशाखापट्‌टनम रवाना की जाएगी। ऐसे ही विशाखापट्‌टनम-किरंदुल यात्री रेल 26 जनवरी को विशाखापट्‌टनम से जगदलपुर तक चलेगी और 27 जनवरी को जगदलपुर से ही विशाखापट्‌टनम के लिए ट्रेन रवाना होगी।

खबरें और भी हैं...