पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रदर्शन:एनएसयूआई ने कुलपति को घेरा, कहा- घर बैठे परीक्षा दी, फिर भी 5 सौ छात्र फेल कैसे

जगदलपुर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जगदलपुर। सोमवार को एनएसयूआई के सदस्यों और अन्य छात्रों ने कुलपति को उनके चेंबर में घेर दिया। - Dainik Bhaskar
जगदलपुर। सोमवार को एनएसयूआई के सदस्यों और अन्य छात्रों ने कुलपति को उनके चेंबर में घेर दिया।
  • आरोप- कॉलेजों ने रिजल्ट बनाने में की गड़बड़ी, कुलपति बोले- 7 दिन में जांच कराएंगे

बस्तर यूनिवर्सिटी ने नतीजे जारी कर दिए हैं ऐसे सैकड़ों छात्र हैं जो परीक्षाओं में फेल हो गए हैं। उनका कहना है कि सभी ने घर बैठकर परीक्षा दी थी ऐसे में उत्तर लिखने में गलती की संभावना काफी कम है। इसके अलावा कई छात्रों को प्रैक्टिकल में भी फेल कर दिया गया है जबकि मुख्य परीक्षा और प्रैक्टिकल में बेहतर प्रदर्शन किया था। असाइनमेंट भी जमा किए। मामले में एनएसयूआई ने सोमवार को कुलपति डॉ शैलेंद्र कुमार का घेराव कर दिया।

एनएसयूआई के अंकित सिंह ने कहा कि नतीजे बनाने और उत्तरपुस्तिकाओं की जांच में कॉलेजों से गड़बड़ी की गई है और इसका खामियाजा छात्रों को भुगतना पड़ रहा है। अंकित ने दावा किया कि कांकेर, केशकाल, कोंडागांव सहित अन्य जिलों के पांच सौ से ज्यादा छात्र जो रेगुलर पर्चे दे रहे थे उन्हें फेल कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि कुलपति से हमने शिकायत की है और बताया है कि रिजल्ट में हो रही गड़बड़ी और कॉलेज द्वारा प्रैक्टिकल में छात्रों को फेल करने की वजह से छात्रों का भविष्य खतरे में जा रहा है।

छात्रों की मांग पर कुलपति बोले- जांच कराएंगे कि गड़बड़ी हुई या नहीं
इधर एनएसयूआई कार्यकर्ताओं के प्रदर्शन के बाद कुलपति शैलेंद्र कुमार ने छात्रों को आश्वस्त किया है कि उनकी जो भी समस्या और शिकायत है उस पर आने वाले 7 दिनों में कार्रवाई की जाएगी और इस बात की जांच करवा ली जाएगी कि नतीजों बनाने में गड़बड़ी हुई है या नहीं। इसके अलावा छात्र प्रैक्टिकल परीक्षाओं में कैसे फेल हो गए इसकी अलग से जांच करवाई जाएगी। प्रदर्शन में मनोहर सेठिया, अरुण गुप्ता, माज लीला, विशाल खम्बरी, आयुषी मिश्रा, फैजल नेवी सहित अन्य छात्र उपस्थित थे।

कांकेर के 85 छात्र फेल, वे भी पहुंचे बीयू
इधर कांकेर के एक सरकारी कॉलेज से रेगुलर छात्रों के तौर पर परीक्षा देने वाले 85 छात्र भी फेल हो गए हैं। ऐसे में सोमवार को आयोजित प्रदर्शन में कांकेर से भी एक दर्जन से ज्यादा छात्र शामिल होने पहुंचे थे।

असाइनमेंट और ओरल में उत्तर दिए फिर भी 4 नंबर
कांकेर से आये सुरेंद साहू ने बताया कि मैंने प्रैक्टिकल एग्जाम दिया था, असाइनमेंट भी जमा किया था। ओरल में पूछे चार में से तीन प्रश्नों का उत्तर भी दिया था लेकिन प्रैक्टिकल में सिर्फ चार नंबर मिले है जबकि उसे कम से कम 18 से 19 नंबर मिलने थे। रिजल्ट आने के बाद जब कॉलेज से संपर्क किया तो कोई कुछ बताने को तैयार नहीं हुआ। ऐसे में अब यूनिवर्सिटी आना पड़ा है।

जो प्रोफेसरों ने पढ़ाया था वही लिखा, 14 नंबर मिले
भुवनेश्वर ने बताया कि कोंडागांव के कॉलेज में बीएससी फाइनल ईयर का छात्र हूं। एक पर्चे में 14 नंबर दिये गए हैं जबकि वही उत्तर लिखा था जो कॉलेजों के प्रोफेसरों ने पढ़ाया था। उसने बताया कि उसने पांचों यूनिट के प्रश्न हल किए थे फिर भी सिर्फ 14 नंबर मिले।

खबरें और भी हैं...