बस्तर के 152 धान खरीदी केंद्रों पर रहा सन्नाटा:संभाग के 168 केंद्रों में 842 किसानों ने बेचा; BJP बोली- अधूरी तैयारी, इंतजाम नहीं

जगदलपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग में भी 1 दिसंबर से धान खरीदी की शुरुआत हो गई है। पहले दिन संभाग भर के 320 धान खरीदी केंद्र में केवल 168 केंद्रों में ही किसान अपना धान लेकर पहुंचे, जबकि अन्य 152 केंद्रों में सन्नाटा पसरा रहा। जहां एक भी किसान के एक किलो धान की भी खरीदी नहीं हुई। धान खरीदी को लेकर अब सियासत भी शुरू हो गई है। भाजपा के पूर्व मंत्री व प्रदेश प्रवक्ता केदार कश्यप ने इसे सरकार की अधूरी तैयारी बताया है। इधर बस्तर के सांसद दीपक बैज ने भी सदन में CG को केंद्र सरकार की तरफ से बारदाने उपलब्ध करवाने की मांग की है।

विपणन अधिकारी आर.बी सिंह ने धान खरीदी के पहले दिन का संभाग भर का आंकड़ा जारी करते हुए बताया कि, संभाग में कुल 2 लाख 29 हजार किसानों ने पंजीयन कराया है। जिनमें से 38 हजार नए पंजीयन हैं। इन किसानों से 85 लाख क्विंटल धान की खरीदी करने का का लक्ष्य रखा गया है। जिसकी कीमत करीब 16 अरब 15 करोड़ रुपए है। उन्होंने बताया कि पहले दिन संभाग के 168 धान खरीदी केंद्रों में कुल 842 किसानों ने लगभग 28 हजार 222 क्विंटल धान बेचा है।

सांसद दीपक बैज केंद्र सरकार की तरफ से बारदाने उपलब्ध करवाने की मांग की है।
सांसद दीपक बैज केंद्र सरकार की तरफ से बारदाने उपलब्ध करवाने की मांग की है।

इन जिलों में इतनी हुई खरीदी
नारायणपुर जिले में इस साल कुल 2 लाख 33 हजार क्विंटल धान खरीदी का लक्ष्य रखा गया है। जिनमें पहले दिन 1199.60 क्विंटल खरीदी की गई है। दंतेवाड़ा जिले में 231.60 क्विंटल खरीदी हुई है। इधर कोंडागांव में पहले दिन ही 516 किसानों ने 19285 क्विंटल धान बेचा है। बीजापुर जिले में केवल 3 किसानों ने 108 क्विंटल ही धान बेचा। जगदलपुर, कांकेर और सुकमा में भी पहले दिन किसान पहुंचें और धान बेचा।

लापरवाही बरती तो थमाया नोटिस
जगदलपुर के नानगुर और बड़े मुरमा धान खरीदी केंद्र में बारदाना के रखरखाव और सुरक्षित धान भंडारण के लिए व्यवस्था समेत किसानों के लिए शौचालय की व्यवस्था में लापरवाही पाए जाने पर अनुविभागीय राजस्व अधिकारी दिनेश नाग ने नाराजगी जाहिर की। उन्होंने खरीदी केंद्र के प्रभारियों को नोटिस थमा कर उनसे स्पष्टीकरण मांगा है। इसके साथ ही बडे़ मुरमा के डाटा एन्ट्री ऑपरेटर को ड्यूटी में अनुपस्थित रहने के कारण स्पष्टीकरण मांगा गया।

केदार बोले- किसानों के लिए नहीं कोई व्यवस्था
भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता केदार कश्यप ने भी सरकार पर आरोप लगाया है कि अधूरी तैयारी के बीच किसानों से धान खरीदी की जा रही है। इन धान खरीदी केंद्रों में जिस तरह की तैयारी किसानों के लिए होनी चाहिए सरकार ने नहीं की है। उन्होंने कहा कि किसानों के लिए बैठने, शौचालय और पेयजल की व्यवस्था भी नहीं है। सांसद दीपक बैज ने सदन में कहा कि, छत्तीसगढ़ में धान खरीदी की शुरुआत हो चुकी है। लेकिन केंद्र सरकार की तरफ से बारदाना नहीं दिया जा रहा है। जिससे किसानों की धान खरीदी प्रभावित हो रही है। उन्होंने केंद्र सरकार से बारदाना उपलब्ध करवाने मांग की है।

खबरें और भी हैं...