तस्कर ने गांजे से भरी कार दुकान में घुसाई:पुलिस को देखकर कार छोड़ फरार हुआ तस्कर गिरफ्तार; पिछले 6 महीने में छत्तीसगढ़-ओड़िशा बॉर्डर पर 50 लाख रुपए का गांजा बरामद

जगदलपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
छत्तीसगढ़ ओड़िशा बॉर्डर पर 10 जुलाई की रात पुलिस को देख तस्कर भाग रहा था, जिसने अड़ावल के पास अनियंत्रित होकर एक दुकान में घुसा दी। - Dainik Bhaskar
छत्तीसगढ़ ओड़िशा बॉर्डर पर 10 जुलाई की रात पुलिस को देख तस्कर भाग रहा था, जिसने अड़ावल के पास अनियंत्रित होकर एक दुकान में घुसा दी।

जगदलपुर पुलिस के द्वारा इन दिनों लगातार छत्तीसगढ़-ओड़िशा बॉर्डर पर गांजा तस्करों को पकड़ा जा रहा है। ओड़िशा से तस्कर बड़ी मात्रा में गांजा लेकर आसानी से बॉर्डर पार कर सीधे छत्तीसगढ़ में प्रवेश कर रहे हैं। जिनपर छत्तीसगढ़ पुलिस कार्रवाई करने पीछे नहीं हट रही। ऐसे में अब ओड़िशा पुलिस पर भी कई बड़े सवाल खड़े हो रहे हैं। सोमवार को भी पुलिस ने लगभग 3 लाख 60 हजार रुपए का 72 किलो गांजा की तस्करी करने वाले युवक को गिरफ्तार किया है। वहीं पिछले 6 माह में पुलिस ने बॉर्डर से ही लगभग 50 लाख रुपए का गांजा बरामद कर 35 से ज्यादा तस्करों की गिरफ्तारी की है।

72 किलो गांजा की तस्करी करने वाले युवक को उसके घर नारायणपुर से ही घेराबंदी कर पकड़ा गया।
72 किलो गांजा की तस्करी करने वाले युवक को उसके घर नारायणपुर से ही घेराबंदी कर पकड़ा गया।

पुलिस को देख भाग रहा था तस्कर, अनियंत्रित हो दुकान में घुसाई कार

पुलिस के अनुसार, छत्तीसगढ़-ओड़िशा बॉर्डर पर जवानों के द्वारा लगातार आने-जाने वाली वाहनों की तलाशी ली जा रही है। इस बीच 10 जुलाई की रात एक सफेद रंग की कार ओड़िशा के जयपुर से आ रही थी। लेकिन छत्तीसगढ़ में प्रवेश करने के बाद जैसे ही उसने जवानों को देखा, तो बचने के लिए गाड़ी की रफ्तार बढ़ाई और कुछ दूरी पर ही अड़ावल के पास अनियंत्रित होकर एक दुकान में जा घुसी। हालांकि इस घटना में तस्कर को कोई चोट नहीं आई। वह मौके से फरार भी हो गया था। इस हादसे के बाद पुलिस ने वाहन की तलाशी ली जिसमें से 72 किलो गांजा बरामद किया गया। यह देख पुलिस के भी होश उड़ गए थे।

ओड़िसा से राजस्थान लेकर 5 लाख रुपए का गांजा लेकर जाते हुए 3 तस्करों को धनपुंजी में पुलिस ने किया था गिरफ्तार।
ओड़िसा से राजस्थान लेकर 5 लाख रुपए का गांजा लेकर जाते हुए 3 तस्करों को धनपुंजी में पुलिस ने किया था गिरफ्तार।

नारायणपुर से की गई आरोपी की गिरफ्तारी

नगर पुलिस अधीक्षक हेमसागर सिदार ने बताया कि इस घटना के बाद फौरन आरोपी की तलाश में पुलिस जुट गई थी। गाड़ी नम्बर से पुलिस को आरोपी का नाम रबेन्द्र सिंह (35) नारायणपुर जिले के बेनूर का होना पता चला। बोधघाट थाना प्रभारी धनंजय सिन्हा के साथ लगभग 9 सदस्यीय टीम गठित कर नारायणपुर भेजा गया। जहां आरोपी को उसके घर से ही घेराबंदी कर पकड़ा गया। जिसपर NDPS एक्ट की धारा 20(बी) के तहत कार्रवाई करते हुए न्यायालय में पेश किया गया है। इस कार्रवाई में SI प्रमोद ठाकुर, ASI विश्वराज सोलंकी, सतीश यादव, प्रधान आरक्षक उमेश चंदेल, लवन पाणिग्रही सहित अन्य शामिल थे।

1 जुलाई को ट्रक में कच्चे आम के नीचे 300 किलो गांजा रख हरियाणा ले जाते हुए बॉर्डर पर पुलिस ने की थी गिरफ्तारी।
1 जुलाई को ट्रक में कच्चे आम के नीचे 300 किलो गांजा रख हरियाणा ले जाते हुए बॉर्डर पर पुलिस ने की थी गिरफ्तारी।

सवालों के घेरे में ओड़िशा पुलिस

छत्तीसगढ़ में सबसे ज्यादा गांजा की तस्करी ओड़िशा से होती है। तस्कर बड़ी आसानी से ओड़िशा के अंतिम कोटपाड़ चेक पोस्ट को पार कर छत्तीसगढ़ में प्रवेश कर लेते हैं। लेकिन बॉर्डर पार करने के बाद छत्तीसगढ़ पुलिस के हत्थे अब तक कई तस्कर चढ़ें हैं। पिछले 6 महीने में छत्तीसगढ़ पुलिस ने बॉर्डर पर ही लगभग 800 किलो से ज्यादा का गांजा बरामद किया है। जिसकी अनुमानित राशि लगभग 50 लाख रुपए से भी ज्यादा है। गांजा तस्करों पर कार्रवाई को लेकर जितनी सक्रिय छत्तीसगढ़ पुलिस दिख रही है, उतनी ही निष्क्रिय ओड़िशा पुलिस नजर आ रही है। ऐसे में ओड़िशा पुलिस पर भी कई बड़े सवाल खड़े हो रहे हैं।

खबरें और भी हैं...